Mumbai Coastal Road

    मुंबई. मुंबई (Mumbai) की सबसे महत्वपूर्ण परियोजना कोस्टल रोड़ (Coastal Road) के सबसे मुश्किल चरण का काम पूरा हो गया है। इसी के साथ मुंबई में सार्वजनिक पार्किंग स्थलों (Public Parking Spots) की संख्या वाहनों की संख्या की तुलना में नगण्य है। मुंबई में लाखों वाहनों के लिए केवल 20,000 सार्वजनिक पार्किंग स्थान उपलब्ध हैं। वर्ली (Worli) से नरीमन प्वाईंट (Nariman Point) तक परियोजना पूरी होने के बाद 10 फीसदी पार्किंग की जगह बढ़ जाएगी। कोस्टल रोड़ का मलबार हिल पहाड़ी के नीचे सुरंग बनाने का काम पूरा हो गया है। इस परियोजना का यह यह सबसे कठिन चरण माना जा रहा था। पूरी परियोजना का 40 फीसदी काम पूरा हो गया है।

    बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल (BMC Commissioner Iqbal Singh Chahal) ने परियोजना के प्रगति की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि 12,700 करोड़ रुपये लागत से बन रहे कोस्टल रोड परियोजना का काम 24 घंटे निर्बाध रूप से चल रहा है। प्रियादर्शनी पार्क से गिरगांव तक बनाए जा रहे भूमिगत मार्ग का 1 किमी सुरंग पूरा कर लिया गया है। अब केवल 900 मीटर का काम बचा है। मालाबार हिल के नीचे सुरंग का काम सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया है।

    1,852 वाहनों को पार्क करने की क्षमता होगी

    मुंबई में वाहनों की संख्या 35 लाख से अधिक है। इसके अनुपात में सार्वजनिक पार्किंग स्थलों की संख्या अपर्याप्त है। बीएमसी रिकॉर्ड के अनुसार, मुंबई में केवल 20,000 से 22,000 वाहन पार्क करने की सार्वजनिक व्यवस्था है। कोस्टल रोड के कारण वाहनों को वेग तो बढ़ेगा साथ ही पार्किंग की सुविधा भी बढ़ जाएगी।  कोस्टल रोड के लिए, 111 तटीय क्षेत्रों को भरा जाएगा उस स्थान पर पार्किंग स्थल बनाया जाएगा। यहां बनने वाले सभी पार्किंग स्थलों में 1,852 वाहनों को पार्क करने की क्षमता होगी।

    सुरंग की चौडाई 40 फुट

    मलाबार हिल में बन रही सुरंग की कुल लंबाई 2.7 मीटर है।  यहां आवागमन के लिए दो सुरंगों का निर्माण किया जाएगा। सुरंग का व्यास 40 फीट रहेगा। सुरंग लगभग चार मंजिला इमारत के आकार की है। सुरंग की प्रत्यक्ष लंबाई 1.9 किमी रहेगी, लेकिन सुरंग में वाहनों को आने जाने के लिए रैंप बनाया जाएगा। समुद्र के नीचे से जाने वाल यह भारत की पहली सुरंग होगी।

    125 एकड़ का बगीचा

    सड़क बनाने के लिए समुद्री किनारों को मिट्टी से पाटा जा रहा है।  उसी किनारे पर पार्क बनाया जाएगा। सभी पार्कों का कुल क्षेत्र 125  एकड होगा। समुद्र के किनारों पर एक जॉगिंग ट्रैक भी बनाया जाएगा।