Keshav Upadhyay

  • कोल इंडिया ने 9 मार्च को स्टॉक जमा करने के लिए लिखा था पत्र

मुंबई: महाविकास आघाड़ी सरकार (Maha Vikas Aghadi Government) की निष्क्रियता (Inaction) की वजह से राज्य में अंधरे का संकट उत्पन्न हुआ है। इस तरह का आरोप भाजपा (BJP) की तरफ से लगाया गया है। पार्टी के मुख्य प्रदेश प्रवक्ता केशव उपाध्ये (BJP Chief State Spokesperson Keshav Upadhyay) ने कहा है कि कोल इंडिया (Coal India) ने 9 मार्च को पत्र (Letter) लिखकर कोयले (Coal) का स्टॉक जमा करने के लिए कहा था, लेकिन ने उस पर ध्यान नहीं दिया।

भाजपा प्रदेश कार्यालय में आयोजित पत्रकार परिषद में केशव उपाध्ये ने बताया कि भुसावल, कोराडी, चंद्रपूर  थर्मल पावर प्लांट के व्यवस्थान ने कोल इंडिया को पत्र लिखकर कोयले के स्टॉक की जानकारी दी थी।  महाजेनको ने 21 मार्च  पत्र लिखकर बताया कि राज्य में बिजली की मांग घट गई है। 

आघाड़ी सरकार की दोहरी भूमिका उजागर हुई

उपाध्ये ने कहा कि एक तरफ ऊर्जा मंत्री कह रहे थे कि लॉकडाउन में बिजली की मांग बढ़ गई है, वहीं दूसरी तरफ केंद्र सरकार को पत्र लिखकर बताया जा रहा था कि राज्य में बिजली की मांग घट गई है। इससे आघाड़ी सरकार की दोहरी भूमिका उजागर हुई है। उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में मुख्यमंत्री को स्पष्टीकरण देना चाहिए।