Fast tag

  • बांद्रा-वर्ली सी लिंक सहित चार टोल प्लाजा से होगी शुरुआत

मुंबई. केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (Union Ministry of Road Transport and Highways) ने 1 जनवरी (1 January) से देशभर के टोल प्लाजा (Toll Plaza) पर फास्ट टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह प्रणाली को अनिवार्य कर दिया है. ‘फास्ट टैग’ न होने पर दोगुना टोल वसूला जाएगा. महाराष्ट्र (Maharashtra) में केंद्र सरकार (Central Government) के फैसले को 26 जनवरी से लागू  करने का निर्णय लिया है. महाराष्ट्र राज्य सड़क विकास निगम (MSRDC) के अनुसार,  26 जनवरी से 4 महत्वपूर्ण टोल प्लाज़ा  बांद्रा-वर्ली सी लिंक, मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे, सतारा-कागल मार्ग और मुंबई एंट्री पॉइंट (दहिसर टोल नाका को छोड़कर)  फास्ट टैग लागू किया जाएगा.

 एमएसआरडीसी के सह-प्रबंध निदेशक विजय वाघमारे ने  कहा कि मार्च 2021 तक एमएसआरडीसी के अधिकार क्षेत्र के तहत सभी 42 टोल प्लाजा पर फास्ट टैग अनिवार्य  कर दिया जाएगा.

सीमा बढ़ा दी गई थी समय सीमा

टोल प्लाजा पर लगने वाले ट्रैफिक जाम को कम करने और समय की बचत करने के लिए केंद्र सरकार ने फास्ट टैग, इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह प्रणाली शुरू की है. फास्ट टैग एक स्टिकर है जिसे वाहन के सामने चिपका दिया जाता है. इन स्टिकर वाले वाहन मालिक RFID के माध्यम से टोल का भुगतान कर सकते हैं. ड्राइवर का बैंक खाता फास्ट टैग से जुड़ा हुआ  रहता है.  इसलिए कुछ सेकंड में टोल का भुगतान करना आसान हो जाता है. सभी नए चार पहिया वाहनों को फास्ट टैग बाइंडिंग बनाया गया है. फास्ट टैग वाहनों  के लिए दो अलग-अलग लेन कई टोल प्लाजा पर  बनाए  गए हैं. इस प्रणाली को लागू करने का निर्णय एक साल पहले लिया गया था लेकिन देश भर के सभी टोल प्लाजा पर सिस्टम को संचालित करना और सभी ट्रेनों को फास्ट टैग प्रदान करना तत्काल संभव नहीं था. इसलिए देश भर के सभी टोल प्लाजा पर फास्ट टैग अनिवार्य करने की समय सीमा बढ़ा दी गई थी.

केंद्र सरकार कर रही जागरुक 

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari)  ने घोषणा की है कि देश में 1 जनवरी से फास्ट टैग को अनिवार्य कर दिया जाएगा. इसलिए अब फास्ट टैग नहीं होने पर वाहनों से दोगुना टोल जुर्माना वसूला जाएगा. इस सिस्टम से समय और ईंधनकी बचत होगी. केंद्र सरकार पिछले दो महीनों से इस बारे में वाहन चालकों को जागरुक कर रहा है. महाराष्ट्र में राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की सड़कों पर 1 जनवरी से इसका क्रियान्वयन शुरू कर दिया जाएगा. लेकिन महाराष्ट्र में फास्ट टैग को 26 जनवरी से  लागू किया जाएगा.

दो लेन फास्ट टैग के लिए आरक्षित

वाघमारे ने कहा कि एमएसआरडीसी के अधिकार क्षेत्र में 42 टोल प्लाजा आते हैं.  इन टोल प्लाजा पर दो लेन फास्ट टैग के लिए आरक्षित हैं, लेकिन अब केंद्र के फैसले के अनुसार 100 प्रतिशत फास्ट टैग को अनिवार्य किया गया है. एमएसआरडीसी अब नए आदेश पर  काम कर रहा है. सभी लेन पर फास्ट टैग सिस्टम स्थापित करने, इसे चालू करने और सभी वाहनों को फास्ट टैग प्रदान करने में कुछ समय लगेगा.वाघमारे ने कहा कि फास्ट टैग का 100 फीसदी क्रियान्वयन 42 में से 4 सबसे महत्वपूर्ण टोल प्लाजा पर शुरू होगा. इनमें सतारा-कागल, मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे, बांद्रा-वर्ली सी लिंक और मुंबई एंट्री प्वाइंट (दहिसर-मुलुंड, वाशी, ऐरोली, एलबीएस को छोड़कर मुंबई में 4 प्रवेश द्वार) शामिल हैं. इस टोल प्लाजा पर सिस्टम चालू हो जाने के बाद इसे शेष टोल प्लाजा पर शुरु किया जाएगा.