Satej-Patil

    मुंबई. गृह एवं सूचना प्रौद्योगिकी राज्यमंत्री सतेज पाटिल (Satej Patil) ने कहा है कि कोरोना प्रतिबंधक टीकाकरण (Vaccination) के मामले में कोल्हापुर जिला पूरे राज्य में अव्वल है। जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था को और अधिक मजबूत बनाने की दिशा में काम किया जा रहा है। कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर उपाय योजना की जा रही है जिससे आने वाले दिनों में मरीजों (Patients) की संख्या बिल्कुल कम हो जाएगी। हालांकि कोल्हापुर जिले (Kolhapur District) में पिछले जनवरी माह से अब तक कोरोना की वजह से 1072 लोगों की जाने गईं हैं। 

    कोल्हापुर के पालक मंत्री सतेज पाटिल ने फेसबुक लाइव के जरिए कोल्हापुर जिले के लोगों से संवाद स्थापित करते हुए कहा कि कोल्हापुर की स्वास्थ्य सुविधा राज्य में सबसे अच्छी स्वास्थ्य सुविधाओं में से एक है। इसलिए बड़ी संख्या में अन्य जिलों से मरीज यहां इलाज के लिए आते हैं। दूसरे जिलों के मरीजों की वजह से मरने वालों की संख्या अधिक है।उन्होंने कहा कि इस बात की चर्चा लगातार हो रही है कि कोल्हापुर जिले की मृत्यु दर पूरे देश में अधिक है, लेकिन मल्टीस्पेशियलिटी अस्पतालों के साथ, कोल्हापुर को ‘मेडिकल हब’ के रूप में एक नई पहचान मिली है। जनवरी 2021 से कोल्हापुर जिले में 1072 कोरोना मौतें हुई हैं। इनमें से 163 या लगभग 15 प्रतिशत जिले के बाहर से हैं। सांगली, सतारा, सोलापुर, रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग और यहां तक कि पुणे, मुंबई और कर्नाटक के मरीज यहां आते हैं। हमने मानवता की भावना से कोल्हापुर में इन मरीजों का इलाज किया है। 

    फेसबुक लाइव के माध्यम से जिले के लोगों से की बातचीत

    फेसबुक लाइव के माध्यम से जिले के लोगों से बातचीत करते हुए पाटिल ने आश्वासन दिया कि जिला कोरोना के संकट से उबरकर अच्छी प्रगति कर रहा है। उन्होंने कहा कि टीकाकरण में हम राज्य में नंबर एक हैं। यह अनुपात कुल योग्य जनसंख्या का 65 प्रतिशत है। अब 45 वर्ष से अधिक आयु वालों के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं जो दूसरी खुराक से बचे हैं, स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिया गया है कि 60 वर्ष से अधिक उम्र के वरिष्ठ नागरिकों को टीकाकरण के समय और अधिक सुविधाएं प्रदान करें और उनके लिए अलग कतारें स्थापित करें।