Devendra Fadnavis
file- photo

    मुंबई: श्रद्धा वालकर हत्याकांड के बाद अब महाराष्ट्र में भी लव जिहाद का कानून लाने की तैयारी चल रही है। शुक्रवार को राज्य के डिप्टी सीएम और गृह विभाग की जिम्मेदारी संभाल देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने यह संकेत दिए हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार लव जिहाद (Love Jihad) के खिलाफ एक कानून (Law) लाने पर विचार कर रही है। फडणवीस ने कहा ऐसे कई मामले सामने आ रहे हैं जिसमें  मुस्लिम पुरुष हिंदू महिलाओं को धर्म परिवर्तन के लिए फंसाते हैं। उन्होंने कहा कि हम इस बारे में अन्य राज्यों में बनाए गए कानून का स्टडी कर रहे हैं। फडणवीस ने कहा कि सभी की सहमति से इस पर फैसला लिया जाएगा। हालांकि उन्होंने कहा कि इस पर हम लोगों ने अभी कोई अंतिम फैसला नहीं लिया है। डिप्टी सीएम ने यह बात शुक्रवार को श्रद्धा वालकर के पिता से मुलाकात के बाद कही। 

    श्रद्धा की उसके बॉयफ्रेंड आफताब अमीन पूनावाला ने बड़ी ही बेरहमी से मारने के बाद उसके शव के 35 से ज्यादा टुकड़े कर फेक दिए हैं। इस जघन्य हत्याकांड के बाद महाराष्ट्र में भी लव जिहाद को रोकने के लिए कानून बनाने की मांग जोर पकड़ रही है। सूत्रों के मुताबिक़, 19 दिसंबर से नागपुर में शुरू हो रहे विधान मंडल के शीतकालीन सत्र में इस कानून के मसौदे पर चर्चा हो सकती है। लव जिहाद का कानून हरियाणा, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में नवंबर 2020 से पहले लागू किया जा चुका है। 

    आफताब को मिले फांसी

    श्रद्धा के पिता विकास वालकर ने राज्य के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस से अपनी बेटी के हत्यारे आफताब पूनावाला को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि मेरी बेटी की बेरहमी से हत्या करने वाले आफताब को फांसी की सजा मिलनी चाहिए। वालकर ने इस मामले में सरकार से सख्त कानून लाने की अपील की है। उन्होंने कहा कि वे नहीं चाहते हैं कि कोई और युवती इस तरह की साजिश का शिकार बने। वालकर ने कहा कि शुरू में यदि महाराष्ट्र पुलिस ने उनकी शिकायतों को गंभीरता से लिए होता तो आज उनकी बेटी जिन्दा होती।  

    न्याय की उम्मीद

    विकास वालकर ने कहा कि महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात के बाद उन्हें उम्मीद है कि हमारी बेटी को न्याय मिलेगा। उन्होंने कहा कि श्रद्धा की मौत से हमारा पूरा परिवार टूट चुका है। श्रद्धा के पिता ने कहा कि दिल्ली पुलिस ने भी हमें न्याय दिलाने का भरोसा दिया है।