सभी के लिए लोकल ट्रेन, रेल राज्य मंत्री रावसाहेब दानवे ने राज्य सरकार पर डाली जिम्मेदारी

    मुंबई. कोरोना (Corona) की दूसरी लहर (Second Wave) थमने के बाद मुंबई (Mumbai) में पहले की तरह ही आवाजाही शुरू हो गई है। हालांकि, मुंबई की लाइफलाइन (Lifeline) कही जाने वाली लोकल ट्रेन (Local Train) सभी के लिए कुछ शर्तों के साथ चल रही है। वैक्सीनेशन का डोज पूरा न कर पाने वाले लाखों लोगों को लोकल यात्रा की परमिशन नहीं है। सभी के लिए लोकल ट्रेन कब शुरू होगी, इसे लेकर केंद्रीय रेल राज्य मंत्री रावसाहेब दानवे (Minister Raosaheb Danve) ने कहा कि यदि राज्य सरकार कहती है, तो सबको बिना शर्त लोकल में यात्रा की परमिशन दी जाएगी। वैसे मुंबई (Mumbai)में अभी भी लाखों लोगों को वैक्सीन का दोनों डोज नहीं लग पाया है। 

    दोनों डोज लेने के 14 दिन बाद ही लोकल यात्रा का पास जारी किया जा रहा है। राज्य सरकार से  पाबंदियों में और ढील देने  और लोकल में सभी को यात्रा की अनुमति देने की मांग हो रही है। रेल राज्य मंत्री रावसाहेब दानवे ने केंद्र की भूमिका स्पष्ट करते हुए राज्य सरकार पर जिम्मेदारी डाल दी है। उधर राज्य सरकार गणेशोत्सव ख़त्म होने के बाद कोरोना की स्थिति पर नजर रख रही है।

    10 लाख एमएसटी जारी

    गणपति पर्व से ही लोगों की आवाजाही और उद्योग धंधे खुल जाने से लोकल ट्रेनों में यात्रियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। बताया गया है कि अब तक लगभग 10 लाख लोकल पास बिक चुके हैं। मध्य रेल ने लगभग 7 लाख और पश्चिम रेलवे ने 4 लाख एमएसटी जारी किए हैं। लंबी दूरी की ट्रेनों में भी यात्रियों की संख्या बढ़ने से स्टेशनों पर भीड़ बढ़ गई है।

    42 लाख से ज्यादा यात्री

    कोरोनाकाल में आम लोगों के लिए महीनों बंद लोकल में पिछले सवा माह से भीड़ काफी बढ़ गई है। मध्य रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार इस समय 26 लाख से ज्यादा लोग लोकल से यात्रा कर रहें हैं, वहीं पश्चिमी उपनगरीय लोकल से  16 लाख से ज्यादा लोग रोजाना यात्रा करने लगे हैं।  मध्य और पश्चिम उपनगरीय नेटवर्क पर 95 प्रतिशत लोकल का संचालन हो रहा है। मध्य रेलवे नेटवर्क पर 1686 फेरियां, जबकि पश्चिम रेलवे पर 1300 फेरियां लग रहीं हैं।