Representative Image
Representative Image

    -सूरज पांडे

    मुंबई: कोरोना (Corona) की तीसरी लहर (Third Wave) को शुरू हुए लगभग एक महीना भी नहीं हुआ है और अब तक शहर में 600 से अधिक गर्भवती महिलाएं (Pregnant Women) कोरोना से संक्रमित (Corona Infected) हो चुकी हैं। गर्भवती महिलाओं के उपचार में लगे डॉक्टरों की मानें इस बार महिलाओं में कॉम्प्लिकेशन कम है और रिकवरी जल्दी हो रही है।

    कोविड की पहली और दूसरी लहर में भी काफी संख्या में गर्भवती महिलाएं वायरस से संक्रमित हुई थी, लेकिन मध्य दिसंबर से शुरू हुई कोविड की तीसरी लहर ने संक्रमण के मामले पहली और दूसरी का रिकॉर्ड तोड दिया। इस लहर में बड़े, बूढ़े, बच्चे यहां तक के गर्भवती महिलाओं की संख्या भी पहले की तुलना में अधिक रहने की बात स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कह रहे हैं। पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं के डिलीवरी और उपचार के लिए डेडीकेटेड मनपा के नायर अस्पताल में अब तक 250, सरकारी अस्पताल कामा में 161,  केईएम में 40, सायन में 5 पॉजिटिव गर्भवती महिलाएं एडमिट हुई हैं। इसके अलावा बीएमसी के 4 डेडीकेटेड मैटरनिटी अस्पताल में भी लगभग 100 पॉजिटिव गर्भवती महिलाएं अबतक एडमिट हो चुकी हैं।

    पहली लहर और दूसरी लहर में कोविड-19 से संक्रमित गर्भवती महिलाओं को स्वास्थ्य संबंधित काफी समस्या हुई थी, लेकिन तीसरी लहर में अधिकतर केस सौम्य लक्षण वाले हैं। रिकवरी भी जल्दी हो रही है। पहले महिलाओं के फेफड़े में इंफेक्शन पहुंच जाता था, लेकिन फिलहाल हमें ऐसे केस नहीं देखने को मिल रहे हैं। अब तक हमने 160 महिलाओं की डिलीवरी भी की है।

    -डॉ. नीरज महाजन, एसोसिएट प्रोफेसर, स्त्री एवं प्रसूति विभाग

    तीसरी लहर में अब तक 161 पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं को अस्पताल में एडमिट किया गया है। इस बार गर्भवती महिलाओं में सौम्य लक्षण है और रिकवरी भी अच्छी है। अब तक किसी भी मरीज को ऑक्सीजन बेड की जरूरत नहीं पड़ी है, जबकि दूसरी लहर में 40 फीसदी मरीजों को ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया था।

    -डॉ. तुषार पालवे, अधीक्षक, कामा अस्पताल

    हमारे अस्पताल में हाल ही में पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं के उपचार के लिए 36 बेड्स आरक्षित रखे गए हैं। फिलहाल हमारे पास 5 मरीज हैं। सभी का स्वास्थ्य स्थिर है। किसी भी मरीज को कोई गंभीर समस्या नहीं है।

    -डॉ. विद्या महाले, डिप्टी डीन, सायन अस्पताल