Photo : @ANI Twiter
Photo : @ANI Twiter

    मुंबई: मुंबई क्रूज ड्रग्स मामले में एनसीपी नेता नवाब मलिक द्वारा लगाए आरोपों को एनसीबी ने बेबुनियाद बताया है।  एनसीबी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस बात की जानकारी दी कि मामले को कैसे संभाला गया और अंत में एनसीबी पर लगे आरोपों को निराधार बताते हुए खारिज कर दिया।

    सभी आरोप निराधार और पक्षपातपूर्ण

    एनसीबी के उप महानिदेशक ज्ञानेश्वर सिंहने कहा, ‘एनसीबी पर लगाए गए सभी आरोप निराधार और पक्षपातपूर्ण हैं। कई कथन केवल अनुमानों पर आधारित होते हैं। एनसीबी की कार्रवाई और प्रक्रियाएं इस कानून के अनुरूप हैं और होंगी। सभी संदिग्धों और आरोपियों के साथ कानून के मुताबिक व्यवहार किया जाएगा।”

    9 स्वतंत्र गवाह शामिल

    एनसीबी के डिप्टी डीजी ज्ञानेश्वर सिंह ने मीडिया से बात करते हुए कहा इस ऑपरेशन में कुल 9 स्वतंत्र गवाह शामिल थे। मनीष भानुशाली और केपी गोसावी उनमें से थे। इस ऑपरेशन से पहले इन दो व्यक्तियों सहित कोई भी स्वतंत्र गवाह एनसीबी को नहीं जानता था।

    उन्होंने बताया कि एनसीबी अपने इंटेलिजेंस व पब्लिक से मिली सूचना के आधार पर कार्रवाई करती है। ऐसी ही एक सूचना के आधार पर क्रूज शिप पर दो अक्टूबर को रेड मारी गई थी।  जिसमें आठ लोगों की गिरफ्तारी हुई थी। एनसीबी ने बताया कि उनके पास से ड्रग्स के साथ एक लाख 35 हजार रुपये भी बरामद हुए थे। 

    क्या है नवाब मलिक के आरोप

    नवाब मलिक ने कहा था, ”एनसीबी के समीर वानखेड़े ने कहा कि 8 से 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. लेकिन तथ्य यह है कि केवल 11 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। जिसमे से तीन को भाजपा नेताओं के दबाव में आकर  रिहा कर दिया गया है।”