डॉलर को रुपए में बदलने के नाम पर लाखों लूटने ‍वाले तीन आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

    मुंबई :  मुंबई पुलिस (Mumbai Police) की समता नगर पुलिस (Samta Nagar Police) ने 3 ऐसे शातिर अंतराष्ट्रीय गिरोह का खुलासा किया है, जो विदेशी मुद्रा को भारतीय मुद्रा में बदलने के बहाने सीनियर सिटीजन को निशाना बनाकर लाखों रुपए का चूना लगाकर फरार हो जाते थे। पुलिस ने डॉलर (Dollar)एक्सचेंज के नाम पर धोखधड़ी करने की धारा के तहत 3 आरोपियों को वसई (Vasai) से गिरफ्तार (Arrested ) किया है, जबकि एक महिला और पुरुष आरोपी अब तक फरार है। समता नगर पुलिस ने मोबाइल फल विक्रेता का रूप बदलकर आरोपी को मुंबई के बाहर भागने से पहले नायगांव स्टेशन से  उन्हें गिरफ्तार कर लिया है, जबकि एक महिला और पुरुष आरोपी भागने में कामयाब रहे।

    गौरतलब है कि मालाड (प.) नटराज मार्केट के रहने वाले मोहम्मद रामजू अली मोहम्मद साबरीवाला (56) की विरार में जूते चप्पल की दुकान है। उसने समता नगर पुलिस को बताया कि 27 जुलाई की सुबह कुछ लोग उन्हें कॉल कर बताया कि उनकी पत्नी एक विदेशी व्यवसाई के यहां घर काम करती है। व्यवसाई ने उन्हें पगार के रूप कुछ हजार डॉलर दिया है। जिसको बदलना है। इसके लिए पहले आप 20 अमेरिकी डॉलर को बदलकर दीजिए फिर आपको और ज्यादा डॉलर बदलने के लिए देता हूं। इस पर मोहम्मद रामजू ने विश्वास कर लिया और कांदिवली पुर्व रेलवे पदचारी पूल के नीचे मिलने बुलाया। जहां मोहम्मद रामजू से कुछ लोग जिनमे एक महिला भी शामिल थी, उन लोगों ने 20 डॉलर की नोट मोहम्मद रामजू के हाथ मे देकर बाकी के और 16 हजार अमेरिकी डॉलर को बदलने के लिए मोहम्मद रामजू से साढ़े 3 लाख रुपए कैश लेकर उसके बदले रद्दी कागज से भरे बैग में डॉलर होने की बात कहकर उसके हाथ मे दे दिए। 

    डॉलर की जगह रद्दी कागज थे

    जब मोहम्मद ने बैग में रखे डॉलर को देखने की कोशिश किया तब वहां पहले से मौजूद एक महिला और 4 पुरुषों ने आपस मे बैग खिंचने की कोशिश करने लगे। यह देख शिकायतकर्त्ता मोहम्मद रामजू डर गया और वहां से भाग गया। मोहम्मद जब अपने घर बैग खोलकर देखा तो उसमें डॉलर की जगह रद्दी कागज थे। मोहम्मद ने इसकी शिकायत तुरंत समता नगर पुलिस को दी।समता नगर पुलिस स्टेशन के जांच अधिकारी एपीआई अनिल हडल ने धारा 420 ,34 के तहत मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू की। समता नगर पुलिस स्टेशन के सीनियर पीआई आनंद राव हाँके के मार्गदर्शन में डिटेक्शन स्टाफ पुलिस उपनिरीक्षक हदल,पुलिस नाइक कोलासो, पीओ,पाटने,पो।शि।गायकवाड़,पीओशीअहीवाले ने जांच में एक मोबाइल नंबर हाथ लगा। इसी नंबर से शिकायतकर्ता को सिर्फ 2 बार कॉल आया था। इसीके आधार पर पुलिस ने वसई इलाके से 2 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जबकि 1 आरोपी को नायगांव रेलवे स्टेशन से फल विक्रेता बनकर गिरफ्तार करने ने सफलता हासिल की। बाकी 2 आरोपी अब तक फरार है।