Rajni-Patil

    मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) से राज्यसभा (Rajya Sabha) की एक सीट के लिए कांग्रेस (Congress) ने रजनी पाटिल (Rajni Patil) को अपना उम्मीदवार बनाया है, जबकि बीजेपी (BJP) ने उत्तर भारतीय नेता संजय उपाध्याय (Sanjay Upadhyay) को मैदान में उतारा है। सोमवार को ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी ने उम्मीदवार के तौर पर रजनी पाटिल के नाम का औपचारिक रूप से ऐलान कर दिया।

    इस सीट को हासिल करने के दावेदारों में कांग्रेस महासचिव मुकुल वासनिक, राजीव शुक्ला, मिलिंद देवड़ा, संजय निरुपम के अलावा राजीव सातव की पत्नी प्रज्ञा सातव का नाम चर्चा में था, लेकिन कांग्रेस हाईकमान ने रजनी पाटिल के नाम पर मुहर लगा दी है। राज्यसभा की यह सीट कांग्रेस सांसद राजीव सातव के निधन से खाली हुई थी, जिस पर उपचुनाव 4 अक्टूबर को होगा।

    मराठवाड़ा को प्रतिनिधित्व

    राजीव सातव मराठवाडा क्षेत्र से आते थे। ऐसे में कांग्रेस ने इसी क्षेत्र की नेता रजनी पाटिल को उम्मीदवार बना कर मराठवाड़ा क्षेत्र को प्रतिनिधित्व देने की कोशिश की है। रजनी पाटिल को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का करीबी माना जाता है। साल 1999 में जब शरद पवार ने सोनिया के विदेशी मूल का मुद्दा उठाते हुए जब अपनी अलग पार्टी बना ली थी, तब बीजेपी में रहते हुए भी रजनी ने सोनिया गांधी का पुरजोर समर्थन किया था। बाद में वे बीजेपी छोड़ कर कांग्रेस में शामिल हो गईं थीं।      

    बीजेपी ने उत्तर भारतीय चेहरा को दिया मौका

    बीजेपी ने बीएमसी चुनाव के मद्देनजर उत्तर भारतीय नेता संजय उपाध्याय को राज्यसभा का उम्मीदवार बनाया है। संख्या बल के हिसाब से संजय के चुनाव जीतने की संभावना कम हैं, लेकिन इस दावेदारी से अब वे राज्य के अंदर बड़े उत्तर भारतीय बीजेपी नेता के रूप में उभर कर सामने आए हैं।     

    वर्तमान में जम्मू-कश्मीर की हैं प्रभारी

    रजनी पाटिल वर्तमान में जम्मू और कश्मीर के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी प्रभारी हैं। वे साल 2013 में राज्यसभा के लिए निर्विरोध चुनी गईं थी। राज्य सभा में उनके प्रदर्शन के लिए सर्वश्रेष्ठ सांसद के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। वे साल 1996 में बीड लोकसभा सीट से सांसद चुनी गईं थीं। साल 2005 में उन्हें केंद्रीय समाज कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में चुना गया था। उन्होंने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में महिलाओं की स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र आयोग के 49 वें सत्र में भारत का प्रतिनिधित्व किया था। वे भारतीय राष्ट्रीय छात्र संघ के रूप में अपनी राजनीतिक जीवन की शुरुआत की। उन्होंने 1992 में जिला परिषद के लिए निर्वाचित होकर चुनावी राजनीति में अपना कैरियर शुरू किया था।

    राज्यसभा चुनाव  

    • नामांकन भरने की तारीख- 22 सितंबर
    • नाम वापस लेने की आखिरी तारीख – 27 सितंबर
    • वोटिंग – 4 अक्टूबर को वोटिंग और परिणाम की घोषणा