मोमिनपुरा-गांधीबाग में फिर चला बुलडोजर, लगातार दूसरे दिन कार्रवाई से मचा हड़कंप

    • 47 अनधिकृत शेड कर दिए चकनाचूर
    • 42 अतिक्रमण साफ
    • 04 ट्रक सामान भी किया जब्त

    नागपुर. कार्रवाई करने के बाद दस्ते के लौटते ही पुन: अतिक्रमण हो जाना भले ही कोई नई बात न हो, लेकिन बुधवार को अतिक्रमणकारियों के उस समय हौसले पस्त हो गए, जब प्रवर्तन विभाग ने पुलिस और ट्रैफिक विभाग की मदद से फिर दूसरे ही दिन गांधीबाग और मोमिनपुरा परिसर में दस्तक दी. दूसरे ही दिन पूरे दलबल के साथ दस्ते के पहुंचने के भनक लगते ही अतिक्रमणकारियों में हड़कंप मच गया. गांधीबाग जोन अंतर्गत दस्ते ने बुधवार को केलीबाग रोड पर मोर्चा संभाल लिया.

    जहां पर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी पहुंच गए. कार्रवाई का आलम यह था कि दस्ते ने पहले कोतवाली पुलिस स्टेशन से बड़कस चौक तक के अतिक्रमण साफ कर दिए. जिसके बाद वापस लौटकर पुलिस स्टेशन का रुख किया. जहां से गांधी गेट की ओर मुड़ने के बाद कुछ अतिक्रमणकारियों ने राहत की सांस तो ली, किंतु दस्ता गांधीगेट से वापस लौटकर फिर पुलिस थाना चौक पर पहुंच गया.

    दस्ते की चल रही इस अजीबोगरीब कार्रवाई से अतिक्रमणकारी परेशान हो गए. इसी बीच दस्ते ने दूकानों के बाहर रखे सामान की जब्ती भी जारी रखी. जिसमें दस्ते ने यहां से 3 ट्रक सामान जब्त कर लिया. 

    नहीं मिली कोई राहत

    केलीबाग रोड पर पहुंचने से पहले दस्ता मोमिनपुरा में कार्रवाई के लिए भगवाघर चौक पहुंचा था. दस्ते के आने की भनक लगते ही कई दूकानदारों ने फुटपाथों तक फैले सामान को समेट लिया. किंतु आलम यह था कि कई दूकानदारों ने सड़कों तक दूकानों के स्थायी शेड तैयार किए हुए थे. बब्बू होटल के पास पहुंचते ही बुलडोजर ने पंजा चलाना शुरू कर दिया. कार्रवाई का रुख देखते हुए कुछ दूकानदारों ने स्वयं शेड निकालने के लिए समय देने की गुहार लगाई.

    किंतु पुख्ता बंदोबस्त के साथ चल रहे दस्ते ने राहत देने से इनकार कर दिया. दस्ते के अधिकारियों का मानना था कि कई बार चेतावनी दी जा चुकी है. जहां से मोमिनपुरा कब्रिस्तान चौक होते हुए गांजाखेत चौक और अग्रसेन चौक तक दस्ते ने लगातार 47 शेड पर बुलडोजर चलाना जारी रखा. इसी तरह दस्ते ने यहां से 42 अतिक्रमणों का सफाया भी किया.

    बार-बार चेतावनी देने बावजूद अतिक्रमण करनेवालों से एक ट्रक सामान भी जब्त किया गया. कार्रवाई में प्रवर्तन विभाग प्रमुख उपायुक्त अशोक पाटिल, पुलिस उपायुक्त गजानन राजमाने, प्रवर्तन निरीक्षक संजय कांबले के मार्गदर्शन में टीमों ने हिस्सा लिया. 

    कार्यकर्ता ने कर्मचारी को दी धमकी

    उल्लेखनीय है कि विधान परिषद सदस्यों के लिए चुनाव की घोषणा के साथ आचार संहिता लगने से बुधवार को सतरंजीपुरा जोन में नेताओं के होर्डिंग्स निकालने की कार्रवाई शुरू की गई. दस्ते द्वारा नेताओं के होर्डिंग्स हटाने की कार्रवाई जारी रहते दौरान ही एक कार्यकर्ता ने इसका विरोध करने का प्रयास किया. यहां तक कि दस्ते के एक कर्मचारी को देख लेने की धमकी भी दी. विवाद के बीच ही दस्ते ने पूरे परिसर में कार्रवाई कर नेताओं के होर्डिंग्स हटा दिए.