File Photo
File Photo

    • आढ़तिया और किसानों की बढ़ी परेशानी

    नागपुर. लोगों को राशन से फ्री का चावल और गेहूं मिलने से कलमना अनाज बाजार की स्थिति बिगड़ी-बिगड़ी सी नजर आ रही है. कोरोना काल के पहले तक मार्केट में जिस तरह की ग्राहकी होती थी, वह अभी गायब हो चुकी है. मार्केट से चावल की ग्राहकी पूरी तरह से नदारद होने से अनाज आढ़तियों के साथ माल लेकर आने वाले किसान भी परेशान हैं. 2 से 3 वर्ष पहले तक इस समय तक मार्केट में अच्छी ग्राहकी रहती थी, जिसे अब तक कोरोना का ग्रहण लगा हुआ है.

    सरकार ने कुछ और महीने के लिए लोगों के लिए राशन से फ्री चावल और गेहूं देने का नतीजा ही आज मार्केट को भुगतना पड़ रहा है. माल पड़ा होने से आढ़तियों का भी बोझ बढ़ता जा रहा है. सरकार को अभी की स्थिति को देखते हुए फ्री राशन बंद कर देना चाहिए. इस समय मार्केट में 5,000 से अधिक बोरा चावल आ चुका है, जिसके लिए कोई लेवाल नहीं है. साथ ही साथ मार्केट में किसान माल लेकर पहुंच ही रहे हैं.

    मुफ्त बंद हो तो ग्राहक बढ़ेंगे

    अनाज आढ़तिया मोरेश्वर घाटोले कहते हैं कि लोगों को गवर्नमेंट का मुफ्त का चावल और गेहूं मिल रहा है तो कोई यहां पर क्यों आयेगा. इससे मार्केट की हालत खराब होते जा रही है. सरकार को मार्केट की स्थिति देखते हुए इसे बंद कर देना चाहिए. इस समय मार्केट में चावल, गेहूं, चना, सोयाबीन के साथ तुअर की आवक हो रही है.

    मार्केट में जयश्रीराम चावल के 4,200 से 4,500 रुपये प्रति क्विंटल भाव चल रहे हैं. वहीं नॉन फिल्टर गेहूं 2,100 से 2,200 रुपये और फिल्टर वाला गेहूं 2,700 से 3,000 रुपये से अधिक क्वालिटी के अनुसार चल रहा है. अभी 3,000 बोरा गेहूं की आवक हो रही है. सोयाबीन के भाव जहां 6,000-6,700 रुपये प्रति क्विंटल चल रहे हैं. वहीं इसकी आवक घटकर 1,000 बोरे ही रह गई है. सोयाबीन पिछले वर्ष जैसा कमाल इस बार नहीं दिखा पा रही है. पिछली बार इसके भाव 10,000 रुपये ऊपर चले गये थे.

    चने के भाव में उठाव नहीं

    वे बताते हैं कि इस समय चने के भाव में कोई उठाव नहीं है. चना 4,250 से 4,300 रुपये पर अटका हुआ है. मिल क्वालिटी चना 4,240 से 4,250 रुपये चल रहा है. इसकी आवक 1,000 से 1,500 बोरे की है. तुअर के भाव 5,500 से 6,100 रुपये प्रति क्विंटल चल रही है.