Burglary, theft

  • DVR लेकर लौटे और पुलिस ने दबोचा

नागपुर. करोड़ों रुपये हाथ लगने की टिप पर एक अपराधी और उसके साथियों ने फ्लैट में सेंध लगाई. ताला तोड़कर भीतर घुसे लेकिन कुछ हाथ नहीं लगा. फ्लैट में सीसीटीवी कैमरे लगे थे. ऐसे में आरोपी डीवीआर चोरी करके लौट गए. अंबाझरी पुलिस ने गश्त के दौरान 4 आरोपियों को दबोचा. पास में सीसीटीवी का डीवीआर मिला और घटना सामने आई. पकड़े गए आरोपियों में गोंड टोली, तेलंगखेड़ी निवासी विशाल शालिकराम चचाने (23), आकाश उर्फ डुंबक सुरेश नेवारे (22), आकाश उर्फ छोटू शंकर पाल (19) और राकेश श्रावण लिल्हारे (27) का समावेश है. उन्हें टिप देने वाला वीरेंद्र पटले नामक आरोपी फरार है.

सोमवार की रात 8.30 बजे के दौरान गश्त पर निकले अंबाझरी थाने के दस्ते को अंबाझरी गार्डन के सामने उपरोक्त 4 आरोपी दिखाई दिए. संदेह के आधार पर उनकी तलाशी लेने पर सीसीटीवी का डीवीआर, केबल, विविध कंपनी के मोबाइल फोन, चाकू, पेचकस, कटौनी आदि सामान बरामद हुआ. इसके बारे में आरोपी कुछ स्पष्ट जानकारी नहीं दे पाए. उन्हें थाने ले जाकर पूछताछ शुरू की गई. विशाल चचाने का पुराना क्रिमिनल रिकॉर्ड मिला. उसके खिलाफ हत्या का प्रयास, मारपीट, छेड़खानी, अपहरण सहित कई मामले दर्ज होने का पता चला. 

सबूत नष्ट करने की तैयारी

डीवीआर के बारे में पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो पता चला कि वीरेंद्र पटले नामक आरोपी ने राकेश को टिप दी थी कि गिट्टीखदान के हजारी पहाड़ परिसर में स्थित इमारत के प्लैट में बड़ा हवाला कारोबार चलता है. पिछली बार उसने फ्लैट से डेढ़ करोड़ रुपये उड़ाए थे. वहां हाथ मारने पर कम से कम 15 करोड़ रुपये मिलेंगे. आरोपी उसकी बातों में आ गए. इमारत के तीसरे माले पर स्थित फ्लैट के दरवाजे की कुंडी तोड़ी लेकिन वहां एक परिवार सो रहा था. इसके बाद आरोपियों ने चौथे माले के फ्लैट की चिटकनी तोड़कर भीतर प्रवेश किया. वहां भी आरोपियों के हाथ कुछ नहीं लगा. लेकिन सीसीटीवी कैमरों में कैद होने के डर से आरोपियों ने डीवीआर चोरी कर लिया.

पुलिस के हाथ कोई सबूत न लगे इसीलिए आरोपी डीवीआर और अन्य सामान अंबाझरी तालाब में फेंकने जा रहे थे. अब पुलिस वीरेंद्र की तलाश में जुटी है. आरोपियों से 2 दुपहिया वाहन, मोबाइल सहित 1.28 लाख रुपये का माल जब्त किया. डीसीपी विनीता साहू और एसीपी तृप्ति जाधव के मार्गदर्शन में इंस्पेक्टर अशोक बागुल, एपीआई अचल कपूर, एएसआई आशीष कोहले, अमित, अंकुश घटी, रोमित और आशीष ने कार्रवाई की.