RTE Admission
Representative Image

Loading

नागपुर. सभी को शिक्षा का अधिकार (आरटीई) के अंतर्गत हर वर्ष स्कूलों में पहली से आठवीं तक छात्रों को 25 फीसदी सीटों पर नि:शुल्क प्रवेश दिया जाता है. प्राय: प्रवेश प्रक्रिया दिसंबर के अंत या फिर जनवरी में आरंभ हो जाती थी लेकिन इस बार अब तक शिक्षा आयुक्त की ओर से न कोई परिपत्रक जारी किया गया और न ही निर्देश दिये गये. इस वजह से अभिभावक प्रक्रिया की प्रतीक्षा में परेशान हो रहे हैं.

निर्धन व जरूरतमंद बच्चों का नामी प्राइवेट स्कूलों में प्रवेश का सपना आरटीई के माध्यम से ही पूरा होता है. प्रवेश के लिए हर वर्ष आवेदनों की संख्या बढ़ती जा रही है. पिछले वर्ष करीब 6,300 सीटों के लिए 35,000 पालकों ने आवेदन किया था. प्रक्रिया अब तक शुरू हो जानी चाहिए थी लेकिन मार्च की शुरुआत होने के बाद भी कोई हलचल नहीं है. माना जा रहा है कि शिक्षा विभाग द्वारा कुछ बदलाव किये जाने की वजह से अब तक परिपत्रक जारी नहीं किया गया.

आरटीई एक्शन कमेटी के शाहीद शरीफ ने बताया कि प्रक्रिया के तहत सबसे पहले स्कूलों का रजिस्ट्रेशन कराया जाता है. इसमें करीब 15-20 दिन लग जाते हैं. इसके पश्चात ड्रा निकालने तक महीना भर लग जाता है. खाली सीटों के लिए 2-3 चरणों में प्रवेश दिये जाते हैं लेकिन इस बार प्रक्रिया का कोई अता-पता ही नहीं है. इस संबंध में अभिभावक भी परेशान हो गये हैं. यदि मार्च में भी प्रक्रिया शुरू की गई तो मई-जून तक पहला ड्रा निकलने की उम्मीद है लेकिन शिक्षा विभाग ने अब तक प्रवेश प्रक्रिया को लेकर किसी भी तरह की गाइडलाइन्स जारी नहीं की है.

8वीं के बाद प्रवेश के लिए तैयार नहीं

सिटी के कुछ स्कूलों ने आरटीई के तहत 8वीं तक पढ़ाई पूरी करने वाले छात्रों को 9वीं में प्रवेश देने से इनकार कर दिया है. इस संबंध में कुछ पालकों की शिकायतें मिली हैं. स्कूलों का कहना है कि 8वीं तक ही प्रवेश की मंजूरी मिली थी जबकि पालक फीस भरकर अगली कक्षाओं में प्रवेश के लिए भी तैयार हैं. अब इस नई समस्या ने अभिभावकों का टेंशन बढ़ा दिया है. 

आरटीई प्रवेश प्रक्रिया के बारे में शिक्षा आयुक्त की ओर से अब तक कोई भी निर्देश जारी नहीं किये गए हैं. जैसे ही निर्देश जारी किये जाएंगे प्रक्रिया की शुरुआत की जाएगी. यह सच है कि इस बार देरी हुई है लेकिन जब तक विभाग कोई निर्णय नहीं लेता कुछ भी नहीं किया जा सकता. 

– रोहिनी कुंभार, शिक्षाधिकारी, प्राथमिक, जिप