Lockers
Representational Pic

    • 04 प्रकार के लॉकर्स 
    • 100 फीसदी चाहते हैं लॉकर्स में रहे उनका कीमती सामान

    नागपुर. आरेंजसिटी में चोरी की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं ऐसा कोई भी दिन नहीं बीत रहा, जब सिटी के किसी कोने में चोरी की घटनाएं नहीं हो रही हों. ऐसे में लोग कीमती सामान रखने के लिए अपने घर को सुरक्षित नहीं मान रहे हैं. वहीं पुलिस की बात की जाए तो उसके दावे केवल हवाई बातें बनकर रह गए हैं. इसी के चलते लोगों में अपने कीमती सामान को सेफ रखने के लिए बैंक लॉकर्स की डिमांड बढ़ते जा रही है. इसी के चलते आज बैंकों के लॉकर्स भी फुल चल रहे हैं. बैंक में 4 प्रकार के लॉकर्स में स्मॉल, मीडियम, लार्ज और एक्स्ट्रा लार्ज है. इनमें सबसे अधिक डिमांड स्मॉल लॉकर्स की है. 

    एजुकेटेड क्लास की मांग सबसे अधिक

    बैंक अधिकारियों के अनुसार लॉकर की डिमांड 100 प्रश बढ़ गई है. शहर और ग्रामीण में बैंक की हर एक शाखा में लॉकर्स की सुविधा हैं. आए दिन चोरी की वारदातों के कारण हर व्यक्ति को घर में रखने में अनसेफ महसूस होता है. 4 से 5 वर्ष पहले लॉकर काफी खाली हुआ करते थे. लेकिन जब से वारदातें बढ़ी हैं तब से हर कोई लॉकर चाहता है. शहर में आज ऐसे लोग हैं जो घर में सोना-चांदी रखते हैं, लेकिन चोर आते हैं और जीवन भर की कमाई को लेकर फुर्र हो जाते हैं. ऐसे में बैंकों में लॉकर की मांग बढ़ गई है. एजुकेटेड क्लास में लॉकर की ज्यादा डिमांड है. 

    सभी बैंकों में ऐसे हालात

    बैंक में लॉकर लगभग फुल चल रहे हैं. इन दिनों लोगों की डिमांड काफी बढ़‍ गई है. चोरी की वारदातों के बाद तो लोग लॉकर ही अधिक पसंद कर रहे हैं. सभी बैंकों के लॉकर्स लगभग फुल हो चुके हैं. लोगों की बहुत अधिक डिमांड होने के कारण लॉकर्स की वेटिंग भी चल रही है. लॉकर के लिए वर्ष भर का किराया लिया जाता है. इसमें स्माल, मीडियम, लार्ज और एक्स्ट्रा लार्ज जैसे साइज के चार प्रकार के लॉकर्स आते हैं. हर कोई लॉकर मांग कर रहा है. जब भी कोई लॉकर खाली होता है, तो दूसरे को आवंटित कर दिया जाता है. यह स्थिति लगभग सभी बैंकों में हो गई है. 

    ज्वेलरी और महंगे आइटम के लिए घर सुरक्षित नहीं

    पिछले दो वर्ष पहले तक ज्यादातर बिजनेसमैन ही लॉकर की सुविधा का उपयोग करते थे. लेकिन अब कंडीशन यह है कि सेल्फ एम्प्लाइड हो या सर्विसमैन सभी एकाउंट के साथ लॉकर की डिमांड कर रहे हैं. इतना ही नहीं, जब इस संबंध में पूछा जाता है, तो सभी का एक ही कहना होता है कि ज्वेलरी और आइटम्स के लिए घर सेफ नहीं लगता है. जानकारी के अनुसार एक कैबिनेट में 90 लॉकर्स होते हैं.