भाजपा ने किया शक्ति प्रदर्शन; गडकरी, देवेंद्र के साथ दाखिल किया पर्चा

    नागपुर. भाजपा की ओर से पूर्व पालक मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, पूर्व सीएम व विद्यमान विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस की उपस्थिति में अपना नामांकन दाखिल किया. इस दौरान भाजपा के हजारों कार्यकर्ता आकाशवाणी चौक के समीप जमा हुए थे. भाजपा ने एक तरह से शक्ति प्रदर्शन कर यह दावा भी करने का प्रयास किया कि इस चुनाव में जीत भाजपा की होगी. नामांकन जमा करने के पूर्व बावनकुले ने गडकरी के निवास पर उनका आशीर्वाद लिया. कांचन गडकरी ने उनका तिलक भी किया.

    इस दौरान ज्योति बावनकुले, संकेत बावनकुले भी उपस्थित थे. उसके बाद आकाशवाणी चौक से भाजपा के हजारों कार्यकर्ताओं के साथ बावनकुले पर्चा दाखिल करने पहुंचे. साथ में गडकरी, फडणवीस, सुलेखा कुंभारे, मेयर दयाशंकर तिवारी के साथ जिलाधिकारी के समक्ष पर्चा दाखिल किया. इस दौरान सभी भाजपा विधायक, नगरसेवक, जिप सदस्य व कार्यकर्ता भी शामिल हुए. 

    गडकरी के नेतृत्व में मिलेगी बड़ी जीत

    पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि बावनकुले ने राज्य में मंत्री रहते हुए उत्तम कार्य किया है. उनकी पहचान काम करने वाले जनप्रतिनिधि की है. बीते 2 वर्ष से उन्होंने संगठन में बड़ा योगदान दिया है. बड़े संयम के साथ उन्होंने पार्टी का काम जारी रखा. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के नेतृत्व में बड़ी जीत पार्टी को मिलेगी.

    वहीं बावनकुले ने कहा कि विधान परिषद में वे नागपुर और विदर्भ की समस्याओं को प्राथमिकता से रखेंगे. यहां की समस्या पर विशेष ध्यान रहेगा. पार्टी ने एक बार फिर मुझ पर विश्वास व्यक्त किया है और मैं जिम्मेदारी निभाऊंगा. उन्होंने गडकरी, फडणवीस, प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल का आभार भी जताया. उन्होंने कहा कि 100 फीसदी जीत उनकी ही होने वाली है. 

    कांग्रेस से अधिक हैं वोटर्स

    भाजपा की ओर से दावा किया जा रहा है कि उसके पास कांग्रेस से 60 वोटर्स अधिक हैं. पार्टी के सभी सदस्य एकजुट हैं और इस चुनाव में पार्टी छोड़कर विपरीत विचारधारा से जुड़ने वाले की हार निश्चित है. 10 दिसंबर को चुनाव के बाद जब परिणाम आएंगे तो सबकुछ साफ हो जाएगा.

    भाजपा नेताओं ने इस संदेह को सिरे से खारिज कर दिया कि किसी भी लालच में भाजपा के वोटर्स आएंगे. किसी तरह की क्रास वोटिंग की संभावना से इनकार करते हुए कहा गया कि परिणाम भाजपा के पक्ष में ही आने वाला है. यह चुनाव स्वयंसेवक भोयर के कांग्रेस में प्रवेश और उनकी संभावित उम्मीदवारी से बेहद रोचक हो चुका है. दोनों ही पार्टी जीत का दावा कर रही हैं. देखना होगा परिणाम का ऊंट किस करवट बैठता है.