नागपुर. करीब 7 डकैतों ने देर रात 3 बजे शिवणगांव पुनर्वास कॉलोनी, चिंचभवन के एक घर में पति-पत्नी को चाकू की नोक पर लूट लिया. उन्होंने 32,000 रुपये की नकदी, लैपटॉप और सोने-चांदी के गहनों समेत 81,000 रुपये के माल पर हाथ साफ कर दिया. मंगेश देवराव वांदरे (32) ने बेलतरोडी थाने में मामला दर्ज कराया. उल्लेखनीय है कि पिछले 15 दिनों के भीतर डकैती का यह दूसरा मामला है.

    इससे पहले ठीक इसी प्रकार करीब 6-7 आरोपियों ने दाभा परिसर में एक वृद्धा के घर वारदात की थी. इसे चड्डी-बनियान गिरोह की कारस्तानी बताया जा रहा था. अब गिरोह का दूसरा कारनामा भी सामने आ गया. हालांकि शिवणगांव वाली वारदात में पीड़ितों से मारपीट की कोई जानकारी सामने नहीं आई है. पुलिस ने 7 अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू की है.

    दरवाजे की कुंडी उखाड़कर किया प्रवेश

    जानकारी के अनुसार, वांदरे प्राइवेट ट्रैवल्स में ड्राइवर हैं. रविवार की रात करीब 3 बजे आरोपियों ने वांदरे के घर के मुख्य द्वार की कुंडी उखाड़कर भीतर प्रवेश किया. उनके पास पेचकस से लेकर ड्रिल मशीन भी थी. करीब 6 से 7 डकैत अंदर आए और सीधे वांदरे के बेडरूम में पहुंच गये. गहरी नींद में होने के कारण वादंरे और उनकी पत्नी स्नेहा को कुछ पता नहीं चला. इनमें एक डकैत ने स्नेहा के गले से मंगलसूत्र खींचा तो उनकी नींद खुल गई. उन्होंने घबराकर शोर मचाया तो वांदरे भी जाग गए लेकिन उनके उठते ही पीछे से करीब 4 और डकैत वहां पहुंच गए. सभी ने चाकू की नोक पर उन्हें चुप रहने को कहा और एक जगह बैठा दिया. शोर मचाने पर जान से मारने की धमकी दी. वांदरे दंपति ने चुप रहने में ही भलाई समझी. इस बीच डकैत पूरे घर की तलाशी लेते रहे. उन्हें अलमारी से 32,000 रुपये नकद और लैपटॉप मिला. इसके अलावा वे स्नेहा के गहने भी लूटकर ले गये. 

    मांग रहे थे 6 लाख

    स्नेहा ने बताया कि देर रात को हथियारबंद डकैतों को देखकर वह डर गईं और उनसे जान बचाने की गुहार लगाने लगीं. उन्होंने कहा कि आरोपियों में एक ने कहा कि वे उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुंचायेंगे, सिर्फ उन्हें 6 लाख रुपये दे दिए जाएं. स्नेहा ने कहा कि उनके पास इतनी बड़ी रकम नहीं है. उनमें से 5 ने स्नेहा से सोने की अंगूठी, चेन और मंगलसूत्र छीन लिया और अलमारी में से 32,000 रुपये लूट लिये. करीब 45 मिनट तक घर में कीमती सामानों के लिए छानबीन करते रहे और फिर चले गये. स्नेहा ने बताया कि उन सभी चेहरे मास्क से ढंके हुए थे और सभी ने बरमुडा पहना हुआ था. उनके जाने के बाद जब मंगेश और स्नेहा थोड़ा संभले तो पुलिस और रिश्तेदारों को सूचित किया गया. जानकारी मिलते ही बेलतरोडी पुलिस मौके पर पहुंची और छानबीन करने लगी. 

    दिखे थे संदिग्ध बाइक सवार

    उधर, देर रात पुलिस के गश्ती दल को चिंचभवन रोड के मोड़ पर एक बाइक पर 2 संदिग्ध दिखे थे. जब पुलिस ने उनकी तरफ गाड़ी बढ़ाई तो उन्होंने तेजी से बाइक भगा दी. हालांकि जल्दबाजी में उनकी बाइक रोड डिवाइडर से टकरा गई और वे गिर पड़े लेकिन जब तक पुलिस टीम उनके पास तक पहुंचती, वे बाइक लेकर अंधेरे में भागने में सफल हुए. शिवणगांव पुनर्वास में हुई डकैती के बाद पुलिस सीसीटीवी रिकॉर्डिंग की बारीकी से जांच कर रही है.