CM Eknath Shinde in Assembly

Loading

नागपुर. मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि महाराष्ट्र विधान परिषद का कामकाज आगामी पीढ़ी के लिए मार्गदर्शक होगा. परिषद की चर्चा इस देश के लिए हमेशा ही मार्गदर्शक होती आई है. सकारात्मक चर्चा के माध्यम से राज्य के विकास को गति देने की अपील उन्होंने की. वे विधान परिषद के शतक महोत्सव निमित्त आयोजित ‘महाराष्ट्र विधिमंडल संसदीय कामकाज में शीत सत्र का योगदान’ विषय पर आयोजित चर्चा सत्र में बोल रहे थे.

इस अवसर पर विप उपसभापति नीलम गोर्हे, संसदीय कार्य मंत्री चंद्रकांत पाटिल, विधान परिषद में विपक्ष के नेता अंबादास दानवे, विजय वडेट्टीवार, राजेंद्र गवई सहित अन्य सदस्य व वरिष्ठ पत्रकार उपस्थित थे. उन्होंने कहा कि ऐतिहासिक इमारत में आज यह शतक महोत्सव कार्यक्रम ऐतिहासिक है. राज्य की संसदीय परंपरा वैभवशाली व गौरवशाली है. नागपुर का शीतकालीन अधिवेशन संसदीय परंपरा को समृद्ध करने वाला है.

उपसभापति गोर्हे ने कहा कि राज्य को महर्षि कर्वे, महात्मा ज्योतिबा फुले, भारतरत्न डॉ. बाबासाहब आंबेडकर, राजर्षि शाहू महाराज, क्रांतिज्योति सावित्रीबाई फुले की समाज प्रबोधनी की परंपरा का लाभ मिला है. उनके योगदान से ही राज्य में शिक्षा आंदोलन सफल हुआ है. जल्द ही विधान परिषद की आज तक की यात्रा पर पुस्तक प्रकाशित की जाएगी. वडेट्टीवार ने भी अपने विचार रखे.