कोरोना: एक्टिव मरीजों का आंकड़ा दोगुना, दीपावली के बाद से बढ़ रहे मरीज

    • 19 एक्टिव पेंशेंट थे 9 नवंबर को
    • 36 तक पहुंच गई संख्या

    नागपुर. कोरोना की तीसरी लहर का असर नवंबर के अंत या दिसंबर की शुरुआत में दिखाई देने की संभावनाएं विशेषज्ञों की ओर से जताई जा रही थीं. तमाम संभावनाओं के बावजूद विशेष रूप से शहर में कोरोना पूरी तरह नियंत्रण में रहा है किंतु दीपावली के बाद के हफ्ते से लगातार इन आंकड़ों में वृद्धि चिंता का विषय बना हुआ है. उल्लेखनीय है कि दीपावली के पहले तक कोरोना बाधितों में एक्टिव मरीजों का आंकड़ा 20 के नीचे ही रहा है. यहां तक कि 9 नवंबर को 1879 टेस्ट होने के बाद केवल 3 मरीज पाए गए थे.

    इस दिन शहर में केवल 19 एक्टिव मरीज थे, जबकि रविवार को यह आंकड़ा दोगुना के करीब 36 पर पहुंच गया. जानकारों के अनुसार चूंकि लॉकडाऊन में पूरी तरह से छूट दे दी गई है. त्योहारों में लोगों की भीड़ तथा नियमों में लापरवाही देखी गई जिससे कुछ प्रमाण में आंकड़े बढ़ने की संभावनाएं जताई जा रही थी. इसका असर दिखाई दे रहा है.

    प्रशासन की पूरी नजर

    बताया जाता है कि कोरोना की स्थिति पर मनपा प्रशासन की पूरी तरह से नजर रखी जा रही है. नियमित रूप से लोगों को कोरोना के नियमों का पालन करने की हिदायत दी जा रही है. तीसरी लहर को लेकर जताई गई संभावनाओं के कारण ही बच्चों के स्कूल शुरू करने का निर्णय लंबित रखा गया. शीतकाल के दौरान वैसे भी सर्दी और खांसी की बीमारी के मरीज बढ़ते हैं. जानकारों के अनुसार देश के अलग-अलग हिस्सों में जिस तरह से कुछ मरीज बढ़ने के मामले देखे जा रहे हैं. उसी तरह नागपुर में भी आंकड़े बढ़ रहे हैं. किंतु स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है. इसके बावजूद संकट टला नहीं है. अत: मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जैसे नियमों का पालन करना जरूरी है. 

    इस तरह हैं आंकड़े

    तारीख टेस्ट पॉजिटिव एक्टिव केसेस

    9 नवं. 1879 3 19

    10 नवं. 2840 9 26

    11 नवं. 2457 3 26

    12 नवं. 2226 5 27

    13 नवं. 2571 3 28

    14 नवं. 2161 9 36

    फिलहाल चिंता नहीं

    भले ही कोरोना के एक्टिव मरीजों का आंकड़ा बढ़ा हुआ दिखाई दे रहा हो लेकिन फिलहाल तीसरी लहर जैसे कोई संकेत नहीं हैं. चूंकि कोरोना पूरी तरह नियंत्रण में है. अत: सरकार के निर्देशों के अनुसार मनपा के कोरोना के अस्पताल फिलहाल बंद किए गए हैं. केवल इंदिरा गांधी अस्पताल में कोविड अस्पताल शुरू है. यदि मेयो और मेडिकल में 50 प्रतिशत बेड भर गए तो मनपा को कोविड अस्पताल शुरू करने होंगे. किंतु यह स्थिति दिखाई नहीं दे रही है. – डॉ. संजय चिलकर, स्वास्थ्य अधिकारी, मनपा.