PRS counters ticket-counter

  • आरक्षण फार्म पर यात्रियों से मांगी जा रही सटीक जानकारियां

नागपुर. ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया वायरस स्ट्रेन सामने आने के बाद भारत में भी इस वायरस ने दस्तक दे दी है. इस वायरस के आने के बाद रेलवे ने भी अतिरिक्त सतर्कता बरतना प्रारंभ कर दिया है. रेलवे अब उन यात्रियों को ही टिकट दे रही है जो फॉर्म में अपना पूरा पता, गंतव्य का पता आदि भरकर दे रहे हैं.

भारत में कोरोना के नए वायरस स्ट्रेन के आने के बाद से रेलवे विभाग हाई अलर्ट पर है. वहीं सरकार ने भी ब्रिटेन से आने वाली हवाई सेवाओं पर रोक लगा दी है. रेलवे ने नियम लागू किया है कि अब आरक्षण के लिए यात्री को फॉर्म भरते समय अपना पूरा पता, कहां की यात्रा कर रहे हैं, जहां जाना है वहां का पूरा पता, लिखना होगा. हालांकि, यह नियम पहले से ही लागू है लेकिन कोरोना के नये स्ट्रेन के हावी होने से पहले ही यात्रियों का सटीक डाटा रखना शुरू कर दिया गया है. इसी के तहत अब आरक्षण फार्म में उपरोक्त सभी जरूरी बातों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है.

ट्रेनों में बढ़ रहे यात्री

एक ओर कोरोना के नये स्ट्रेन को लेकर जहां एयरपोर्ट पर अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है. ब्रिटेन समेत कुछ देशों से आने वाली फ्लाइट्स रोक दी गई है. दूसरी तरफ, रेलवे में यात्रियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. देश के कई महत्वपूर्ण रूट्स पर एक बार फिर ट्रेनें हाउसफुल चल रही है. इनमें नागपुर और हावड़ा, मुंबई और पुणे जैसे रूट भी शामिल है.

हावड़ा से चलकर अहमदाबाद जाने वाली ट्रेनों में वेटिंग 200 से अधिक ही मिल रही है. एक तरफ ट्रेनों में यात्रियों की संख्या बढ़ रही है तो दूसरी तरफ कोरोना के नये स्ट्रेन से रेलवे को परेशान कर दिया है. यहीं कारण है कि अब रेलवे द्वारा यात्री के संशयित होने पर उसका डाटा ज्ञात करने में समय खर्च ना हो, इसकी तैयारी कर चुकी है.