Murder
File Photo

Loading

नागपुर. पड़ोसी युवती के साथ गाली-गलौज करने से रोकने पर अपराधी पिता-पुत्र ने रेलवे कर्मचारी की छाती में चाकू घोंप दिया. उपचार मिलने से पहले जख्मी की मौत हो गई. इमामबाड़ा थाना क्षेत्र में हुई इस घटना से पूरे इलाके में हड़कंप मच गया. फरार आरोपियों को क्राइम ब्रांच के यूनिट 4 की टीम ने गिरफ्तार कर लिया. उन्हें भागने में मदद करने वाले भी प्रकरण में आरोपी बन सकते हैं. मृतक जाटतरोड़ी, इंदिरानगर निवासी महेश विट्ठल बावने (23) बताया गया. महेश के पिता विट्ठल रेलवे में कार्यरत थे. उनकी मौत के बाद महेश को अनुकंपा के तहत इलेक्ट्रिकल डिपार्टमेंट में नौकरी मिली.

पकड़े गए आरोपियों में इंदिरानगर निवासी शंकर उर्फ शेरू भोला सिंह राठोड़ (52) और ऋतिक शंकर राठोड़ (22) का समावेश है. शंकर पर हत्या और मारपीट सहित पुराने आपराधिक मामले दर्ज हैं. ऋतिक पर भी मारपीट का मामला दर्ज है. शेरू ने परिसर में अपनी धाक जमा रखी थी और अवैध तरीके से साहूकारी करता है. महेश के घर पर गुरुवार को बच्चे को झूले में डालने का कार्यक्रम आयोजित किया गया था. पूरा परिवार इसी तैयारी में जुटा था. इसी दौरान शंकर परिसर में आया. पड़ोस में रहने वाली अनिशा इंगोले के साथ गाली-गलौज की. उससे कहा कि तेरी मां फोन नहीं उठा रही है और पैसे नहीं दे रही है. गाली-गलौज की आवाज सुनकर महेश घर से बाहर निकला. उसने शंकर को गाली-गलौज करने से रोका और लेनदार के घर जाकर बात करने को कहा.

इसी बात से शंकर बौखला गया. तुझे अभी सबक सिखाता हूं कहकर अपने घर गया और चाकू लेकर आया. उसके पीछे ऋतिक भी वहां पहुंच गया. दोनों ने मिलकर महेश के साथ मारपीट की. ऋतिक ने महेश के दोनों हाथ पकड़ लिए और शंकर ने उसकी छाती में चाकू घोंप दिया. लोग चीख-पुकार करते हुए मदद के लिए दौड़े तो दोनों आरोपी भाग निकले. 

क्राइम ब्रांच ने दबोचा 

घटना की जानकारी मिलते ही इमामबाड़ा पुलिस मौके पर पहुंची. महेश को उपचार के लिए मेडिकल अस्पताल ले जाया गया लेकिन डाक्टर ने मृत घोषित कर दिया. पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर जांच आरंभ कर दी. क्राइम ब्रांच का यूनिट 4 भी आरोपियों की तलाश में जुटा हुआ था. शाम 4 बजे टीम ने शंकर को दिघोरी परिसर से गिरफ्तार किया. करीब 2 घंटे बाद ऋतिक भी पुलिस के हाथ लग गया. बताया जाता है कि आरोपियों को भागने में राहुल नेवारे नामक युवक ने मदद की थी. पुलिस ने उसे भी पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया. 

घर में मिले अवैध साहूकारी के दस्तावेज और पिस्तौल

प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए सीपी रविंद्रकुमार सिंगल ने डीसीपी निमित गोयल और गोरख भामरे को जांच करने के निर्देश दिए. पुलिस ने स्थानीय नागरिकों से पूछताछ की तो शेरू द्वारा अवैध साहूकारी करने का पता चला. वह लोगों की मजबूरी का फायदा उठाकर 20 से 40 प्रश ब्याज वसूलता था. पुलिस ने उसके घर की तलाशी ली तो कई दस्तावेज बरामद हुए. शेरू के घर पर पुलिस को देसी पिस्तौल भी मिली. पुलिस ने नागरिकों से अपील की है कि यदि शेरू के खिलाफ कोई शिकायत हो तो इमामवाड़ा पुलिस से संपर्क कर शिकायत करें.