KP Ground
File Photo

  • टेंडर की प्रक्रिया को हो गए 2 वर्ष, प्रशासन उदासीन
  • 05 करोड़ का वित्तिय आवंटन
  • 21 एकड़ का है दायरा

नागपुर. स्मार्ट सिटी की दिशा में बढ़ रही उपराजधानी में लंबे समय से नजरअंदाज रहे शहर के केंद्रबिंदु कस्तूरचंद पार्क को विकसित करने के लिए राज्य सरकार की ओर से 5 करोड़ का आवंटन होने के बाद मनपा की ओर से भले ही विकास को अमली जामा पहनाने के लिए प्रथम चरण में फेज-1 की टेंडर प्रक्रिया शुरू की गई हो, लेकिन 2 वर्ष बीत जाने के बावजूद मनपा प्रशासन की बेतरतीब कार्यप्रणाली के चलते कस्तूरचंद पार्क कायाकल्प के लिए तरस रहा है. विशेषत: 21.45 एकड़ में फैले कस्तूरचंद पार्क में ऐतिहासिक धरोहर को बरकरार रखते हुए उसके आसपास सौंदर्यीकरण करने को हेरिटेज संरक्षण समिति की ओर से हरी झंडी दी गई थी.

सेल्फी पाईंट, फाऊंटेन और लाइटिंग

कस्तूरचंद पार्क को विकसित करने के लिए तैयार की गई डिजाइन के अनुसार यहां जॉगिंग ट्रैक, साइकिलिंग ट्रैक के अलावा रंगबिरंगे फाऊंटेन, सेल्फी पाईंट और लाइटिंग का काम प्रस्तावित योजना में शामिल किया गया था. साथ ही पूरे पार्क को लोहे की सुरक्षा दीवार से सुरक्षित करने का निर्णय लिया गया था. 2 वर्षों में केवल इसी कार्य को अंजाम दिया जा सका है. जबकि योजना के अनुसार आगे का काम अटका हुआ है. फाऊंटेन आदि का काम एक निजी कम्पनी की ओर से कम्पनी सामाजिक उत्तरदायित्व की निधि, जबकि बचे काम के लिए सरकार की ओर से निधि उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया था. बताया जाता है कि पार्क में आनेवालों को बैठने की व्यवस्था, विशेष तकनीकी के शौचालय, इसके अलावा बच्चों को खेल के लिए मैदान भी उपलब्ध रखने की योजना थी.  

11 करोड़ का विस्तृत प्लान

सूत्रों के अनुसार कस्तूरचंद पार्क को विकसित करने के लिए गत समय ही जिलाधिकारी की ओर से मनपा को जिम्मेदारियां सौंपी गई थी. जिसके बाद फेज-1 के प्लान को पूरा करने के दिशा-निर्देश जारी किए गए थे. मनपा की ओर से निर्देश प्राप्त होने के बाद लोगों से आवश्यकताओं के अनुसार अभिनव कल्पनाएं मंगाई गई थी. विशेषत: कस्तूरचंद पार्क को विकसित करने के लिए 11 करोड़ का विस्तृत प्लान होगा. मैदान के चारों ओर 1 किलोमीटर का अलग-अलग जॉगिंग ट्रैक और साइकिलिंग ट्रैक उपलब्ध होगा. एलआईटी बिल्डिंग की ओर के हिस्से में पे एंड पार्क की भी सुविधा होगी. आरबीआई के विपरीत दिशा में मेट्रो स्टेशन में बड़ी एलईडी स्क्रीन भी लगाई जाएगी. जिसे मैदान से देखा जा सकेगा. स्क्रीन पर सामाजिक संदेशों को प्रसारित करने का विकल्प रहेगा.