Know the medical challenges and future of Ayurveda after corona during KOVID-19 from Dr. Smita Mulayam

मुंबई. देश में कोरोना वायरस के चलते पिछले 25 मार्च से लॉकडाउन लागू हो गया है। इस दौरान कोरोना योद्धा बनकर पूरा स्वास्थ्य विभाग, डॉक्टर्स, स्वास्थ्य कर्मचारी, नर्स दिन रात संघर्ष कर रहे है। वर्तमान में देश में कोरोना मरीज तेजी से बढ़ रहे है। इसलिए इसका तान स्वास्थ्य विभाग पर पड़ रहा। वहीं कोरोना के खिलाफ संघर्ष करते-करते कई डॉक्टर्स, नर्स कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए है। कई डॉक्टरोंने अपनी जान भी गवाई है। इसलिए कोविड-19 के पश्चात और बाद में स्वास्थ्य विभाग के सामने कौन सी चुनौतियां आ रही है और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र का भविष्य कैसा होगा यह जानना जरुरी है।

लॉकडाउन के दौरान नवभारत ने अपने पाठकों के लिए नवभारत Vibes ‘सीरिज़ ऑफ़ वेबिनार्स’ कार्यक्रम शुरू किया है। इस वेबिनार के माध्यम से लोगों को कई विषयों से रूबरू कराया। जिसके बाद अब इस कार्य्रकम में 13 जुलाई को शाम 6 बजे आयुशक्ति की फाउंडर और चेयरमैन डॉ. स्मिता नरम उपस्थित रहेंगी. इस दौरान वह ‘कोरोना के दौरान उसके बाद आयुर्वेद का भविष्य कैसा होगा’ विषय पर अपनी राय नवभारत के फेसबुक पेज पर https://www.facebook.com/enavabharat) शाम 6 बजे आकर चर्चा करेंगी.