Nagpur to Hyderabad Vande Bharat
नागपुर से हैदराबाद वंदेभारत (डिजाइन फोटो)

Loading

  • नागपुर से हैदराबाद : सिटी से नहीं एक भी सीधी ट्रेन, जो थी वह भी छिनी
  • वंदेभारत हजारों युवाओं, नागरिकों को सख्त जरूरत

नागपुर: भले ही नागपुर स्टेशन (Nagpur Sation) के देश के प्रमुख स्टेशनों में शामिल हो।  यह स्टेशन देश के उत्तर से दक्षिण और पूर्व से पश्चिम को जोड़ता हो लेकिन रेलवे ने नागपुरवासियों को सताने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। चाहे पुणे हो या फिर हैदराबाद (सिकंदराबदा), रेलवे ने तेज कनेक्टिविटी ने हजारों यात्रियों को दूर रखा।  दूसरी ओर, पुणे की तरह नागपुर से हैदराबाद रूट पर भी बसों की भरमार है जो यात्रियों की जेब काटने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे। पूरी तरह कर्मिशियल मोड पर चल रहा रेलवे बोर्ड यदि इस रूट पर वंदेभारत एक्सप्रेस (Vande Bharat Express) चला दें तो हर दिन 100 प्रतिशत की आक्यूपेंसी मिलेगी।  साथ ही हजारों रेल यात्रियों को सुलभ और सुरक्षित यात्रा भी। 

सीटों का कोटा भी घटा

नागपुर और हैदराबाद के बीच यात्रियों की संख्या को अंदाजा केवल बस की संख्या से नहीं, बल्कि ट्रेन 12772/71 में भीड़ से भी लगाया जा सकता है।  देर रात साढ़े 12 बजे बजे चलने वाली यह ट्रेन सुबह 8। 20 बजे सिकंदराबाद पहुंच जाती है।  लगभग ऐसा ही समय वापसी का भी है।  इस टाइमिंग ने इस ट्रेन को यात्रियों की पसंदीदा ट्रेन बना दिया। सप्ताह में तीन दी चलने वाली इस ट्रेन का प्रतिदिन चलने की मांग की जाने लगी। कारण सीटों के आरक्षण कोटे में भारी कटौती हो गई जिससे यात्रियों को कन्फर्म टिकटें मिलना मुश्किल हो रहा है। 

नागपुर-हैदराबाद- नागपुर (सीधी सेवा)

40 बसें प्रतिदिन  511 किमी सड़क दूरी (7। 30 से 10। 00 घंटे)

00 ट्रेन 578 किमी रेलवे दूरी (8। 30 से 11। 00 घंटे)

यह ट्रेन छिनी

■ ज्ञात हो कि हैदराबाद के उपस्टेशन यानि सिकंदराबाद और नागपुर के बीच त्रिसाप्ताहिक ट्रेन 12772/71 चलाई जाती थी। 

■ ये ट्रेन ना केवल नागपुर बल्कि, आसपास के अन्य छोटे शहरों व ग्रामीण क्षेत्रों से इस ट्रेन को यात्रियों की पसंदीदा ट्रेन बना दिया।  सप्ताह में 3 दिन चलने वाली इस ट्रेन को प्रतिदिन चलने की मांग की जानेहैदराबाद जाने और आने के लिए बेहतर विकल्प था। 

■ यहां तक कि पडोसी राज्य मप्र के छिंदवाड़ा और बैतूल जिले के नागरिक भी इस ट्रेन का भरपुर उपयोग करते थे। 

■ रेलवे ने हजारों यात्रियों को हैरान करते हुए इसे भी नागपुर से हटाकर रायपुर से परिचालित करना शुरू कर दिया।  

लगी।  यह बात और है कि रेलवे ने प्रतिदिन की मांग पूरी करने के बजाय इसे नागपुर से रायपुर भेज दिया।  रायपुर से परिचालन के

■ रायपुर से हैदराबाद के लिए पहले कई विकल्प उपलब्ध है जो 8 घंटे में यह सफर पूरा कर देते हैं।  फिर यह निर्णय समझ से परे है 

■ सवाल यह है कि रायपुर या आसपास के क्षेत्र वाले लोग 17 से 19 घंटे वाली ट्रेन क्यों चुनेंगे।  इस ट्रेन को सबसे अधिक यात्री नागपुर से ही मिलते हैं।