Sitabuldi Market

    नागपुर. शहर में जिला प्रशासन के साथ मनपा प्रबंधन कोरोना को रोकने के लिए भले तमाम दावे कर ले लेकिन जमीनी हकीकत भयानक है. लोग बाजारों में शॉपिंग करने के लिए बिना मास्क लगाए धड़ल्ले से जा रहे हैं. सोशल डिस्टेंस की बात तो भूल जाइये यहां बीमार आदमी भी भीड़ के बीच खांसते मिल जाएंगे. ज्यादातर दुकानों से सैफ्टी उपकरण गायब हैं. 

    पूर्व में सभी दुकानदारों को अपनी शॉप में सैनेटाइजर रखने के निर्देश दिए गए थे. साथ ही कहा गया था कि कोई भी ग्राहक बिना सैनेटाइज किए और मास्क लगाए शॉप के अंदर नहीं आना चाहिए. लेकिन कई दुकानदारों ने इस नियम के खिलाफ काम करना शुरू कर दिया है. पहले दीपावली पर जमकर नियमों की धज्जियां उड़ाई गई.

    अब शादी समारोह के नाम पर मनमानी चलरही है. अभी कोरोना वायरस की तीसरी लहर थमी नहीं है. बार बार डब्लूएचओ चेतावनी जारी कर रहा है. इसके बावजूद बाजारों में नियम पालने करने के लिए जितनी सख्ती दिखानी चाहिए थी उतनी दिखाई नहीं जा रही है. जिससे कोविड पॉजेटिव के केस बढ़ने की आशंका पैदा हो गई है. 

    बॉक्स: ये हैं सबसे संवेदनशील बाजार 

    सबसे ज्यादा संवदेनशील बाजारों में बाजारों में मंगलवारी धरमपेठ जोन, लक्ष्मीनगर,  हनुमान नगर, नेहरूनगर, गांधीबाग जोन, सतरंजीपुराए लकडगंज, आसीनगर शामिल हैं. हालांकि मनपा के उपद्रव शोध दल द्वारा इन जगहों पर जुर्माने की कार्रवाई की जाती है. अभी हाल में  इस पर अंकुश लगाने के लिए मनपा के उपद्रव शोध दल की ओर से लगातार जुर्माना की कार्रवाई की जा रही है. इसी श्रृंखला में अबतक उपद्रव शोध दल की ओर से कुल 17,100 लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर कुल 69,08,000 रु. से अधिक का का जुर्माना वसूला गया है. 

    तेजी से फेल सकता है संक्रमण 

    शहर के सभी मुख्य बाजारों में व उनकी गलियों में लोग एक-दूसरे से सटकर निकल रहे हैं. यहां साेशल डिस्टेंसिंग व मास्क के नियम का लाेग खुलआम उल्लंघन कर रहे हैं.  भीड़ के कारण गलियां भी तंग हो गई हैं. ऐसे में लोगों को एक- दूसरे से सटकर निकलना पड़ रहा है. इसी सप्ताह शादी समारोह शुरू होने वाले हैं. इसके साथ ही बस और ट्रेनों का भी बुरा हाल है.  अब बसाें, ट्रेनों में भीड़ शुरू हाे गई है. लाेग बसाें में भी बिना मास्क के सफर कर रहे हैं. इससे संक्रमण एक जगह से दूसरी जगह फैलेगा. इससे तेजी से काेराेना शहर से लेकर गांव तक पैर पसार सकता है.

    मनपा का जो दल कार्रवाई कर रहा है वो नाकाफी है. जो लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं उनके खिलाफ बड़े स्तर पर कार्रवाई की जरूरत है. ज्यादातर दुकानदार कमाई में व्यस्त हैं लेकिन उनकी दुकान में ग्राहको को सैनेटाइज करने की कोई व्यवस्था नहीं है. ऐेसे लोगों को भी चेतावनी देनी होगी. -ओम भावमानी, स्थानीय निवासी 

    लोगों की इन्हीं गलतियों के कारण कोरोना की तीसरी लहर की आशंका बनी हुई है. पता नहीं लोगों को बाजार जाते समय डर क्यों नहीं लगता. उन्हें मास्क लगाने में क्या दिक्कत है. कोरोना की पहली लहर कितनी भयावह थी. लोग उन दिनों को कैसे भूल सकते हैं. -मुकेश त्यागी,स्थानीय निवासी