water supply

    • टैंकर के भरोसे जिंदगी 
    • फ्लैट वाले हो रहे हलाकान
    • जीवन प्राधिकरण के अधिकारी गायब

    नागपुर. बेसा-बेलतरोड़ी सहित 10 गांवों में पिछले 6 दिनों से पानी आपूर्ति बंद होने से लोग हलाकान हो गए हैं. लोग पुन: टैंकर के भरोसे हो गए हैं लेकिन ग्राम पंचायत के पदाधिकारी समस्या को लेकर कुछ भी गंभीर नहीं हैं. इन क्षेत्रों में बड़े-बड़े फ्लैट स्कीम हैं  जहां पर पानी की समस्या विकराल रूप ले चुकी है. इन क्षेत्रों में महाराष्ट्र जीवन प्राधिकरण (एमजेपी) की ओर से पानी की आपूर्ति की जाती है. 

    जीवन प्राधिकरण द्वारा बेसा-बेलतरोडी, पिपला, शंकरपुर, बेलाहरि, हुड़केश्वर, खरबी, बहादुरा, महालगाव कापसी, गोनी सीम गांवों में पानी आपूर्ति की जाती है. जानकारों ने बताया कि 6 दिन पूर्व खरबी के पास मुख्य पाइपलाइट टूट गई है जिसे दुरुस्त करने में एमजेपी अधिकारियों को काफी मशक्कत करनी पड़ी. 3 दिन इसे सुधारने में चले गए. इसके बाद रामा डैम में बिजली की समस्या उत्पन्न हो गई है. इस कारण पानी आपूर्ति बंद पड़ी है. बड़ी संख्या में लोग इसकी शिकायत कर रहे हैं लेकिन हल नहीं निकल रहा है. 

    टैंकर वालों ने बढ़ाई कीमत

    बड़े-बड़े फ्लैट वाले वर्तमान में प्राइवेट टैंकर के भरोसे पर आ गए हैं. पानी आपूर्ति शुरू होने से ये गायब हो गए थे लेकिन इन गांवों में पिछले 5 दिनों से टैंकर दौड़ रहे हैं. संकट को देखते हुए टैंकर संचालकों ने कीमतें भी बढ़ा दी हैं जिससे लोगों को दोहरी मार पड़ रही है. ग्राम पंचायत से भी लोग टैंकर उपलब्ध कराने की मांग कर रहे हैं लेकिन पदाधिकारियों के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही है. 

    प्रयास जारी

    जानकारों का कहना है कि रामा डैम के पास एमजेपी और महावितरण के अधिकारी काम कर रहे हैं. इसके जल्द ही ठीक होने की संभावना जताई जा रही है. हालांकि अधिकारी 2 दिनों से ऐसा आश्वासन दे रहे हैं लेकिन सोमवार रात तक पानी आपूर्ति सुचारु नहीं हो पाई थी.