Chandrashekhar Bawankule
चंद्रशेखर बावनकुले

Loading

नवभारत न्यूज नेटवर्क
नागपुर: भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले ने अपने-अपने जिलों में छोटे दलों के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को भाजपा में शामिल करने और गांवों व कस्बों में छोटे दलों को समाप्त करने के लिए अभियान चलाने का फरमान जारी किया है। बावनकुले ने यह बयान नागपुर, रामटेक, भंडारा-गोंदिया और गढ़चिरौली-चिमूर लोकसभा क्षेत्रों के प्रमुख पदाधिकारियों की एक बैठक में बोलने के दौरान दिया। बावनकुले ने कहा कि बीजेपी में “विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता शामिल हो रहे हैं। इसलिए प्रत्येक बूथ प्रमुख को अपने-अपने जिलों में राजनीतिक दलों से कम से कम 50 पदाधिकारियों को लेना चाहिए और छोटे दलों को खत्म करना चाहिए। प्रत्येक पदाधिकारी को यह सोचना चाहिए कि मैं पार्टी के लिए क्या कर सकता हूं, बजाय इसके कि मुझे क्या दिया गया है?

विपक्ष ने साधा निशाना 
विजय वडेट्टीवार, (विधानसभा में विपक्ष के नेता) ने कहा, यह हमेशा से आरएसएस और बीजेपी की यही नीति रही है। दोस्त बनाओ, फिर पीठ में छुरा घोंपकर खत्म कर दो। वैसे मुझे लगता है कि बावनकुले ने सच्चे इंसान हैं। इसलिए उनके मुंह से सच बाहर निकल गया है।’

ये मोदी-शाह की विचारधारा- संजय राउत
मोदी-शाह की भाजपा और उनके बावनकुले जैसे लोग लोकतंत्र व संविधान को मानने को तैयार नहीं हैं। बावनकुले ने जो कहा है वही कुछ साल पहले बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा ने कहा था। उन्होंने कहा था कि देश में सिर्फ एक ही पार्टी रहेगी और वह है बीजेपी। हम दूसरी पार्टियों को खत्म कर देंगे, हम क्षेत्रीय पार्टियों को खत्म कर देंगे, लेकिन आज उन्हें और उनकी पार्टी को लोकसभा चुनाव के लिए दूसरों की पार्टियों को तोड़ना पड़ रहा है। कई छोटे दलों को साथ लेकर एनडीए को फिर से खड़ा करना पड़ा। बेशक, कोई कितना भी कहे कि इसे खत्म कर दो, उसे खत्म कर दो लेकिन हकीकत में ऐसा संभव नहीं है। देश में लोकतंत्र है।