Hospital

    • प्रन्यास सभापति सूर्यवंशी ने दी जानकारी
    • 30 बेड का होगा अस्पताल

    नागपुर. मनपा के कई स्कूल दुर्दशा के चलते भले ही बंद हो गए हों लेकिन पार्षद मनोज सांगोले द्वारा विशेष प्रयास कर तैयार किया गया मनपा स्कूल सभी पार्षदों के लिए एक आदर्श उदाहरण रहा है. इसी तरह अब निर्वाण घाट के पास पार्षद के प्रयासों से लाइब्रेरी का निर्माण किया जा रहा है. हालांकि अधिकांश कार्य तो हो चुका है लेकिन कुछ अंतिम कार्य बचा हुआ है. लाइब्रेरी और अन्य कार्यों को लेकर आ रहीं समस्याओं को लेकर पार्षद की ओर से मनपा आयुक्त राधाकृष्णन बी. और प्रन्यास सभापति सूर्यवंशी से गुहार लगाई गई थी. चर्चाओं में रहा स्कूल और अब लाइब्रेरी का जायजा लेने के लिए दोनों अधिकारियों ने यहां दस्तक दी. वास्तविक रूप में चल रहे कार्य की प्रशंसा करते हुए प्रन्यास सभापति सूर्यवंशी ने प्रन्यास की जमीन पर लंबित 30 बेड के अस्पताल का निर्माण जल्द शुरू करने का आश्वासन दिया. लाइब्रेरी परिसर में दोनों अधिकारियों के हाथों से पौधारोपण भी किया गया. 

    टीडीआर लेकर अधिकार में ले जमीन

    अधिकारियों की टीम द्वारा न केवल लाइब्रेरी का मुआयना किया गया बल्कि नारी के खसरा नंबर 108 और 109 पर निर्मित की गई एसआरए की इमारत का भी जायजा लिया गया. विस्थापितों के लिए बनाई गई एसआरए की इस योजना में विकास के कई कार्य होने बाकी हैं. जिस संदर्भ में पार्षद सांगोले ने अधिकारियों का ध्यानाकर्षित किया. उन्होंने कहा कि एसआरए की इमारत तो बनाकर तैयार कर दी गई लेकिन यहां रहने वाले लोगों की आवाजाही के लिए मार्ग ही नहीं है. इसके अलावा कुछ मूलभूत सुविधाओं की कमी भी है. चर्चा के बाद प्रन्यास सभापति ने कहा कि एनआईटी के माध्यम से सभी मूलभूत सुविधाएं दी जाएंगी. इसी तरह सड़क के लिए जिन किसानों की जमीन अधिग्रहित होनी है. उन्हें टीडीआर देकर जमीन अधिकार में लेने की हिदायत भी अधिकारियों को दी. 

    घाट से नहीं है बाधा

    चर्चा के दौरान अधिकारियों की ओर से निर्वाण घाट के सटकर लाइब्रेरी बनाए जाने को लेकर आश्चर्य जताया गया जिस पर पार्षद ने  बताया  कि सभी के लिए यह भले ही प्रश्नचिन्ह हो लेकिन इसमें अध्यापन के लिए आवश्यक शांति का माहौल है. लगातार छात्रों की संख्या यहां बढ़ रही है. केवल सुविधाओं की कमी है. सुविधाएं उपलब्ध कराई गईं तो शहर की अव्वल लाइब्रेरी हो सकेगी. अति. आयुक्त राम जोशी, शिक्षाधिकारी प्रीति मिश्रीकोटकर, कार्यकारी अभियंता गिरीश वासनिक, विभागीय अभियंता सुनील सरपाते, सुनील गजभिए, अलका गावंडे, दिनेश यादव, टिंकू कांबले, अर्जुन कोलते, शुभम सांगोले, प्रशांत लोहे, बाबा श्रीखंडे, सुमित खोबरागडे, प्रमोद शेंडे, राहुल नायर आदि उपस्थित थे.