rtmnu

  • उपकुलपति से की शिकायत

नागपुर. कोरोना के कारण परीक्षा लेना मुश्किल हो गया है. अंतिम वर्ष को छोड़कर अब तक अन्य परीक्षाएं नहीं ली गई हैं. इस बीच हरिभाऊ आदमने कला, वाणिज्य महाविद्यालय के बी.ए. प्रथम व द्वितीय वर्ष के करीब 105 छात्रों को मराठी विषय के एक प्राध्यापक द्वारा अंतर्गत अंक कम देकर अनुत्तीर्ण करने की जानकारी सामने आई है. इस संबंध में छात्रों ने विवि के सामने आंदोलन किया और उपकुलपति से मुलाकात कर ज्ञापन भी सौंपा. छात्रों ने बताया कि उन्होंने महाविद्यालय में शैक्षणिक कार्य पूर्ण किया.

कोरोना की वजह से मार्च से महाविद्यालय बंद है. इस हालत में छात्रों को पिछले वर्ष के परिणाम और एक्टिविटी के आधार पर अंक दिए जाने थे. इस हालत में प्रमोट करते हुए छात्रों को अगली क्लास में प्रवेश दिया जाना था. लेकिन जब छात्र अपना परिणाम जानने के लिए महाविद्यालय में गए तो पता चला कि वे मराठी विषय में अनुत्तीर्ण हुए हैं.

छात्रों ने संबंधित प्राध्यापक से संपर्क किया. तब प्राध्यापक ने कहा कि जितनी पात्रता थी उतने ही अंक दिये गये हैं. अनुत्तीर्ण छात्रों में प्रथम सत्र के 80 और द्वितीय सत्र के 25 विद्यार्थियों का समावेश है. सरकार द्वारा प्रमोट किए जाने के आदेश के बाद भी संबंधित प्राध्यापकों को जानबूझकर अनुत्तीर्ण करने का आरोप लगाया है. छात्रों ने संबंधित प्राध्यापक पर कार्रवाई कर अंतर्गत अंक देने की मांग की है.

बताया जाता है कि उक्त प्राध्यापक ने पिछले वर्ष भी 125 छात्रों को अंतर्गत अंक न देते हुए अनुत्तीर्ण किया था. इस संबंध में विवि के पास शिकायत भी आई थी. तब विवि ने इस मामले को विवि शिकायत निवारण समिति के समक्ष रखा था. समिति ने प्राध्यापक को दोषी करार देते हुए छात्रों को लिखित परीक्षा के आधार पर अंतर्गत अंक देने की सिफारिश की थी.