fraud
Representative Photo

    नागपुर. इतवारी के एक कपड़ा व्यापारी को उसी के नौकरों ने 22.50 लाख रुपये की चपत लगा दी. प्रदर्शनी में बेचने के लिए दिया गया माल अन्य व्यापारियों को बेचकर रकम अपने खातों में जमा करवा ली. पुलिस ने दयानंद पार्क चौक, जरीपटका निवासी कमलेश दयालदास रावलानी (35) की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया. आरोपियों में लालगंज निवासी मनोज प्रकाश देवघरे (28) और आशीष उर्फ नागेश पराते (27) का समावेश है.

    कमलेश की तीननल चौक के पंजवानी मार्केट हिंदुस्तान गारमेंट नामक फर्म है. मनोज और आशीष उनकी दूकान पर काम करते थे. वर्ष 2019 से 2021 के बीच गांधीसागर तालाब के समीप रजवाड़ा पैलेस में गारमेंट फेयर आयोजित किया गया था. यहां माल बेचने की जिम्मेदारी मनोज और आशीष को सौंपी गई थी. भारी मात्रा में उन्हें माल उपलब्ध करवाया गया था.

    कुछ दिन पहले कमलेश ने 3 वर्षों के लेन-देन का ऑडिट किया. तब पता चला कि मनोज और आशीष ने 22.50 लाख रुपये के माल की हेराफेरी की है. आरोपियों ने उनका माल कोराड़ी के फैशन आउटफिट, अहेरी के ए.डी. कलेक्शन और चंद्रपुर के दिनेश साठे सहित अन्य दूकानदारों को बेच दिया था. उनसे सीधे अपने अकाउंट में पेमेंट करने को कहा और 22.50 लाख रुपये पचा गए. उन्होंने मामले की शिकायत तहसील पुलिस से की. पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर जांच आरंभ कर दी.