train
File Photo

  • रिजर्वेशन हॉल में लग रहीं कतारें, यात्रियों का मजमा

नागपुर. स्टेशन पर अब लगभग सबकुछ सामान्य हो चुका है. कोविड के कहर से उबरते हुए अब फिर पहले जैसे करीब 135 से अधिक यात्री ट्रेनों की आवाजाही शुरू हो चुकी है. स्पेशल ट्रेनों को नियमित बना दिया गया है. यहां तक करीब 18 महीनों के इंतजार के बाद पैसेंजर ट्रेनें भी शुरू कर दी गई हैं. ऐसे में यात्रियों की संख्या बढ़ना भी तय है लेकिन यात्रियों के लिए उपलब्ध टिकट काउंटरों की संख्या उतनी की उतनी ही है, जितनी कोविड काल में थी.

एक ही हॉल, 7 ही काउंटर

चूंकि अब सबकुछ पहले जैसा नजर आ रहा है. कोरोना के डर से उबरते हुए लोगों ने एक बार फिर ट्रेनों में सफर शुरू कर दिया है. लंबी वेटिंग लिस्ट का सबूत है. ऐसे में तय है कि रिजर्वेशन के लिए लोगों की संख्या भी बढ़ेगी. नागपुर स्टेशन पर फिलहाल पश्चिमी भाग का रिजर्वेशन सेंटर शुरू है. यहां कुल 16 काउंटर है लेकिन फिलहाल केवल 8 ही शुरू रहते हैं. इनमें से भी 7 में ही टिकट बुकिंग की जा रही है. एक काउंटर दिव्यांगों के लिए आरक्षित है. यानि सामान्य लोगों और यात्रियों के लिए 6 ही काउंटर बचते हैं. कोविड की पहली लहर के बाद जब यात्री परिवहन शुरू किया गया तो सीमित ट्रेनें और यात्रियों की सीमित संख्या को देखते हुए बुकिंग काउंटरों की संख्या 16 से घटाकर 8 कर दी गई थी लेकिन अब जबकि सभी ट्रेनें शुरू हो चुकी है तो फिर बुकिंग काउंटर भी बढ़ाना समय की जरूरत बन रही है.

पूर्वी द्वार पर भी रिजर्वेशन काउंटर शुरू करना जरूरी

इन दिनों स्टेशन की व्यवस्था समझ से परे हैं. यात्रियों का करंट टिकट काउंटर पश्चिमी भाग में प्लेटफार्म 1 से लगा हुआ. ऐसे में उस यात्री को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है जिसे करंट टिकट बनाकर प्लेटफार्म 8 से ट्रेन पकड़नी पड़ रही हो. या तो सारा सामान लेकर करीब 300 मीटर का एफओबी पहले चढ़कर और फिर उतरकर प्लेटफार्म 8 तक जाना होगा या फिर ऑटो रिक्शा करके रोड से पूर्वी द्वार की ओर पहुंचना होगा ताकि समय पर ट्रेन पकड़ सके. वहीं, पूर्वी भाग के रिजर्वेशन काउंटर बंद होने से पूर्व और मध्य नागपुर के लोगों को टिकट बुकिंग के लिए घूमकर पश्चिमी भाग की ओर आना पड़ रहा है, जहां रिजर्वेशन हॉल में उन्हें लंबी कतारें और भारी भीड़ नजर आती है. पूर्वी द्वार की ओर रिजर्वेशन के 3 से 4 काउंटर है. इनमें से यदि 2 काउंटर भी शुरू हो जाये तो कई लोगों को बड़ी राहत मिलेगी. 

धूल खा रहा RPF थाने से लगा काउंटर

एक समय स्टेशन पर यात्री सुविधा के लिए 3 जगहों पर टिकट काउंटर बनाये गये थे जिनमें पूर्वी द्वार की ओर एक हॉल में जहां आरक्षित और जनरल टिकटें, दोनों उपलब्ध होती थी. वहीं, पश्चिमी भाग में लोहमार्ग पुलिस थाने से लगा रिजर्वेशन हॉल और रेलवे सुरक्षा बल थाने से लगा जनरल टिकट काउंटर. हालांकि इनमें से केवल एक में ही यात्रियों का टिकट बुकिंग सेवा दी जा रही है. मंडल प्रबंधन चाहे तो पैसेंजर ट्रेनों के यात्रियों के लिए आरपीएफ थाने से लगा काउंटर शुरू कर सकता है. वैसे भी पैसेंजर में सफर करने वाले यात्रियों को टिकट लेने से पहले वैक्सीन के दोनों डोज के सर्टिफिकेट दिखाना अनिवार्य है. ऐसे में एक ही हॉल में आरक्षित टिकटें और जनरल टिकटों की बिक्री के समय लोगों का मजमा लगना तय है. फिर यदि करंट टिकट काउंटर अलग बन सकता है तो फिर पैसेंजर ट्रेनों का अलग काउंटर भी संभव है.