corona
File Pic

    • 46.53 लाख जिले की जनसंख्या
    • 10.71 लाख लोगों को लग चुकी है वैक्सीन

    नागपुर. कोविन एप पर पंजीकरण के अनुसार वैक्सीनेशन के अभियान में मनपा और जिला प्रशासन के निरंतर प्रयासों से अब पुणे और मुंबई के बाद जिला तीसरे नंबर पर पहुंचने का दावा प्रशासन द्वारा किया गया. प्रशासन के अनुसार कोविन एप पर जितना पंजीयन होता है उतने लोगों का वैक्सीनेशन पूरा होने का अनुमान लगाया जाता है.

    वर्ष 2011 की जनसंख्या के अनुसार जिले की जनसंख्या 46,53,570 है जिनमें से अब तक 10,71,631 लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है. 16 जनवरी 2021 से वैक्सीनेशन अभियान शुरू किया गया था जिसके अनुसार स्वास्थ्य कर्मचारियों, फ्रंट लाइन वर्कर्स, ज्येष्ठ नागरिक, 45 प्लस और कुछ हद तक 18 प्लस का वैक्सीनेशन भी शुरू किया गया. जिले में हो चुके वैक्सीनेशन के लिए 13,65,448 डोज दिए गए. इसके अनुसार 29.34 प्रतिशत वैक्सीनेशन हुआ है. 

    इस तरह हो रही तुलना

    जिला प्रतिशत

    पुणे 36.62

    मुंबई 34.54

    नागपुर 29.34

    अमरावती 19.02

    नाशिक 18.26

    ठाणे 18.09

    औरंगाबाद 17.75

    100 सेंटर्स पर हो रहा वैक्सीनेशन

    सिटी में मंगलवार तक कुल 5,34,453 लोगों को पहला डोज दिया जा चुका है, जबकि 1,82,197 लोगों को दूसरा डोज भी दिया गया है. दोनों डोज मिलाकर कुल 7,16,650 लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है. मनपा ने वैक्सीनेशन आपके द्वार, ड्राइव इन वैक्सीनेशन के अलावा वैक्सीनेशन सेंटर्स मिलाकर कुल 100 स्थानों पर वैक्सीनेशन किया है. 18 से 44 वर्ष आयु के विदेश जा रहे युवाओं को भी विशेष शिविर लगाकर वैक्सीन दी जा रही है.-राम जोशी, अति. आयुक्त, मनपा.

    45 प्लस को कोवैक्सीन का पहला डोज

    राज्य सरकार की ओर से पर्याप्त मात्रा में कोवैक्सीन उपलब्ध कराई गई है. अत: अब 45 प्लस को कोवैक्सीन का पहला डोज देने की प्रक्रिया शुरू की जा रही है. मेडिकल अस्पताल, इंदोरा चौक स्थित डॉ. बाबासाहब आम्बेडकर अस्पताल के लिए सिद्धार्थनगर टेका स्थित बैरि. राजाभाऊ खोबरागडे सभागृह और महल रोग निदान केंद्र पर कोवैक्सीन का पहला और दूसरा डोज देने की प्रक्रिया पूरी की जा रही है.

    18 से 44 वर्ष की आयु के जिन युवाओं ने कोवैक्सीन का पहला डोज लिया है, उन्हें मेडिकल अस्पताल और महल रोग निदान केंद्र पर दूसरा डोज दिया जा रहा है. राज्य सरकार के निर्देशों के अनुसार 45 प्लस को कोविशिल्ड का पहला और दूसरा डोज देने का अभियान हर केंद्र पर चलाया जा रहा है.