arrest
File

  • क्राइम ब्रांच ने साथी को भी दबोचा

Loading

नागपुर. शहर में सेंधमारी की वारदातों को अंजाम देने में चर्चित अपराधी को पुलिस ने गिरफ्तार किया. जांच में उससे एक वांटेड क्रिमिनल की जानकारी मिली. पुलिस ने उसे एमपी से गिरफ्तार किया. बताया जाता है कि वह 8 मामलों में वांछित था. पकड़े गए आरोपियों में रमानगर, कामठी निवासी मोनिश उर्फ लाला नारायण मेश्राम (28) और धरमनगर, कलमना निवासी अक्षय दिलीप भैसारे (27) का समावेश है. अक्षय के खिलाफ कई गंभीर मामले दर्ज है. उसपर लगाम कसने के लिए सीपी ने एमपीडीए लगाया था.

इसकी जानकारी मिलते ही अक्षय नागपुर से फरार हो गया. क्राइम ब्रांच के यूनिट 2 को जानकारी मिली थी मोनिश ने सेंधमारी की कुछ वारदातों को अंजाम दिया है. पहले उसे गिरफ्तार किया गया. जांच के दौरान उसने अपने दोस्त अक्षय के साथ मिलकर सेंधमारी और वाहन चोरी की कुछ वारदातों को अंजाम देने की जानकारी दी. अक्षय के बारे पूछताछ करने पर भाटापारा में होने की जानकारी मिली. पुलिस दल ने उसे भाटापार से गिरफ्तार किया.

1.70 लाख का माल जब्त 

मोनिश और अक्षय से सेंधमारी की 6 वारदातों का खुलासा हुआ. फिलहाल दोनों पुलिस हिरासत में है. पुलिस ने उनसे 1.70 लाख रुपये का माल जब्त किया है. अक्षय खुद एमपीडीए सहित 8 मामलों में फरार था. उसका क्रिमिनल रिकॉर्ड खंगालने पर चोरी और मारपीट सहित 50 मामले दर्ज होने की जानकारी मिली. डीआईजी सुनील फुलारी, डीसीपी गजानन राजमाने और एसीपी सुधीर नंदनवार के मार्गदर्शन में इंस्पेक्टर किशोर पर्वते, पीएसआई पी.एम. मोहेकर, लक्ष्मीछाया तांबुसकर, एएसआई मोहन शाहू, हेड कांस्टेबल संतोष मदनकर, रामनरेश यादव, अनिल पाटिल, कांस्टेबल रविकुमार शाहू, सुहास शिंगणे, शेषराव राउत, योगेश गुप्ता, सूरज भोंगाड़े और कमलेश गहलोद ने कार्रवाई को अंजाम दिाय.