Uttar Pradesh Police got a big success in the murder of Kho-Kho player in Bijnor, one arrested
File Photo

नागपुर. वाठोड़ा थानांतर्गत श्रावणनगर परिसर में हफ्ता वसूली को लेकर हुए विवाद में 4 आरोपियों ने मिलकर 1 युवक को मौत के घाट उतार दिया. खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची. इस घटना से कुछ समय के लिए परिसर में तनाव का वातावरण बन गया था. वाठोड़ा पुलिस ने नाबालिग सहित 4 को हिरासत में ले लिया. मृतक हसनबाग निवासी मोहम्मद आकिब शेख मोहम्मद सत्तार (24) बताया गया. वह आटो चलाता था. आकिब के खिलाफ मारपीट और लूटपाट के मामले दर्ज थे. पकड़े गए आरोपियों में श्रावणनगर निवासी प्रकाश उर्फ पक्या भीम कोसरे (21), विशाल उर्फ फल्ली पृथ्वीलाल गुप्ता (19), अजय यशवंत बोकड़े (20) और 17 वर्षीय नाबालिग का समावेश है. पक्या और फल्ली के खिलाफ भी मारपीट के मामले दर्ज है. पुलिस के अनुसार आकिब कई दिनों से नाबालिग को पैसे के लिए परेशान कर रहा था.

मामले में फंसाने की देता था धमकी

उसपर गांजा बेचने का आरोप लगाकर वसूली करता था. 15 दिन पहले भी वह अपने आटो में नाबालिग को उठा ले गया था. उसे पुलिस से पकड़वाने की धमकी देता था. नाबालिग के पिता से आकिब ने 1 लाख रुपये भी मांगे थे. इस वजह से नाबालिग परेशान था. मंगलवार की दोपहर 12 बजे के दौरान आकिब परिसर में दाखिल हुआ. उस समय नाबालिग किशोर घर के समीप साथियों के साथ बैठा था. आकिब ने उसे धमकाना शुरु कर दिया. पैसे नहीं देने पर टपकाने की धमकी दी और हथियार निकाल लिया. नाबालिग और उसके 3 साथियों ने आकिब को दबोच लिया. चारों ने मिलकर आकिब से उसी का हथियार छीन लिया. गर्दन, पेट और छाती पर वार कर उसे मौत के घाट उतार दिया और फरार हो गए. 

2 घंटे भीतर धरे गए आरोपी

पूरे इलाके में खलबली मच गई. वाठोड़ा पुलिस मौके पर पहुंची. डीआईजी नविनचंद्र रेड्डी और डीसीपी लोहित मतानी ने घटनास्थल का जायजा लिया. तब तक आकिब के परिजनों को घटना की जानकारी मिल चुकी थी. बड़ी संख्या में दोस्त-रिश्तेदार मौके पर पहुंचे और कुछ समय के लिए वातावरण तनावपूर्ण हो गया. पुलिस ने 2 घंटे के भीतर ही चारों आरोपियों को दबोच लिया.

आरोपी आकिब के हथियार से उसे मारने की जानकारी दे रहे है, लेकिन पुलिस को कुछ और विवाद होने का संदेह है. सभी से पूछताछ जारी है. इंस्पेक्टर अनिल ताकसांडे के मार्गदर्शन में सब इंस्पेक्टर रमेश नारनवरे, एएसआई बट्टूलाल पांडेय, हेड कांस्टेबल जगन्नाथ घायवट, पवन साखरकर, मंगेश टेंभरे, अतुल टिकले और देवा सोनकुसरे ने आरोपियों को गिरफ्तार किया.