multi-layered mask can reduce the spread of infection by 96 percent, know the whole matter: Research
Representative Image

  • ग्राम पंचायत चुनाव के नामांकन का समय समाप्त

नाशिक. चाहे ग्राम पंचायत (Gram Panchayat) हो या लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) , जिस निशान पर उम्मीदवार चुनाव लड़ता है, वह भी बहुत महत्वपूर्ण होता है। प्रत्याशी मतदाताओं को आकर्षित करने और जीत का मार्ग प्रशस्त करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं। ग्राम पंचायत चुनावों के लिए भी चुनाव आयोग (Election Commission) ने सब्जियों, फलों और घरेलू वस्तुओं सहित 190 प्रतीकों का एक विकल्प प्रदान किया है। इच्छुक उम्मीदवार मास्क (Masks) और सेनिटाइजर (Sanitizers) का निशान मांग रहे हैं, जो कोरोना संकट (Corona Crisis) के कारण जीवन का अभिन्न अंग बन गया है। 

ग्राम पंचायत चुनावों का बुखार बढ़ता जा रहा है और गांवों में पैनल गठन को गति मिली है। कौन प्रतियोगी होगा और कौन सी रणनीतियां होंगी, इसकी तैयारी के लिए लोग गांवों में रात भर जाग कर बैठकें कर रहे हैं। 

तहसील कार्यालयों में लगी इच्छुक उम्मीदवारों की भीड़

नामांकन फार्म भरने के लिए बुधवार, 30 दिसंबर को अंतिम दिन होने के साथ उम्मीदवारों की भीड़ तहसील कार्यालयों में लगी रही। चुनाव लड़ने के लिए मतदाताओं को आकर्षित करने वाले चुनाव चिह्नो की आवश्यकता होती है। इस वर्ष के ग्राम पंचायत चुनावों के लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने 190 चिह्नों का विकल्प प्रदान किया है। इसमें सब्जियां, फल, घरेलू सामान जैसे निशान हैं। आवेदन प्रस्तुत करने वाले उम्मीदवार को चुनाव चिह्न के लिए आवेदन करना होगा। इसके लिए वह प्राथमिकता के क्रम के अनुसार आवेदन में 5 प्रतीकों का विकल्प दे सकते हैं। 

190 चिह्नों का विकल्प

हालांकि, 190 चिह्नों की सूची में पिछले चुनाव के पारंपरिक निशान शामिल हैं। संकट के समय मास्क, सेनिटाइजर महत्वपूर्ण हो गए हैं। प्रशासन ने स्पष्ट किया है कि भविष्य में सुरक्षा के लिए मास्क और सेनिटाइजर का उपयोग अनिवार्य है। उम्मीदवारों को उम्मीद थी कि मास्क और सेनिटाइजर भी निशानों की सूची में शामिल होंगे। देखा गया कि हर उम्मीदवार ने निशानों की सूची देखकर अधिकारियों से सवाल किया कि क्या मास्क या सेनिटाइजर निशान नहीं मिलेगा।