गलत कार्य कर रही केंद्र सरकार: छगन भुजबल

    नाशिक. केंद्र सरकार (Central Government) के खिलाफ टिप्पणी करने पर अलग-अलग विभागों का उपयोग बदला लेने के लिए किया जा रहा है। अब विपक्ष के रिश्तेदारों के मकानों पर छापेमारी की जा रही है, जो गलत है। ऐसा आरोप पालकमंत्री छगन भुजबल (Guardian Minister Chhagan Bhujbal) ने किया। वे कोरोना जायजा बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।  उन्होंने उपमुख्यमंत्री अजीत पवार (Deputy Chief Minister Ajit Pawar) के रिश्तेदारों (Relatives) पर की गई कार्रवाई पर नाराजगी जताई। 

    उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार विभिन्न विभागों के माध्यम से जो कामकाज कर रही है, वह गलत है। राजनीतिक विरोधियों को परेशान करने के लिए कार्रवाई करते समय उनके रिश्तेदारों के मकानों पर छापेमारी करने की घटना लोकतंत्र में कभी कभार होती है, लेकिन अब ऐसी कार्रवाई आम हो गई है।

    हमारी 3 पार्टियों की सरकार है, विवाद तो होगा ही

    जिले में पिछले कुछ दिनों से शिवसेना-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी आमने-सामने है। शिवसेना के विधायक सुहास कांदे ने भुजबल पर गंभीर आरोप किए। 2 दिन पहले पूर्व विधायक योगेश घोलप ने देवलाली की विधायक सरोज आहिरे के खिलाफ श्रेय चुराने का आरोप किया। महाविकास आघाड़ी में शुरू इस विवाद के बारे में भुजबल ने कहा कि महाविकास आघाड़ी सरकार में हम एक साथ काम कर रहे हैं। एक पार्टी के सरकार में भी मतभेद और विवाद होते हैं। हमारी 3 पार्टियों की सरकार है, इसलिए आरोप-प्रत्यारोप होते ही रहेंगे।

    टोल बंद किया इसलिए सड़कों पर हुए गड्ढे

    भुजबल ने कुछ दिन पहले केंद्रीय सड़क यातायात मंत्री नितीन गडकरी का राष्ट्रीय महामार्ग पर होने वाले गड्डों की ओर ध्यान आकर्षित किया था। राष्ट्रीय महामार्ग के साथ राज्य महामार्ग के सड़कों की दुर्गति हुई है। इस बारे में भुजबल ने कहा कि राज्य मार्ग की टोल वसूली बंद की है तो राष्ट्रीय महामार्ग की टोल वसूली शुरू है। सभी राज्यमार्ग राष्ट्रीय महामार्ग को देना चाहिए। लखीमपुर स्थित किसान हत्याकांड का भुजबल ने विरोध किया। शरद पवार ने जलियांवाला हत्याकांड के साथ लखीमपुर की जो तुलना की है वह सही है। इस घटना के खिलाफ सभी को 11 अक्टूबर को आयोजित बंद को सफल बनाना चाहिए।