Electricity bill of farmers should be waived on the lines of Punjab: Dr. Jayant Pawar

    मालेगांव. तालुका के कुछ हिस्सों में कम और अधिक बारिश (Rain) के कारण कृषि फसलों (Agricultural Crops) को भारी नुकसान हुआ है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता डॉ. जयंत दादा पवार (Dr. Jayant Dada Pawar)ने मांग की है कि राज्य सरकार (State Government) पंजाब की तर्ज पर किसानों (Farmers) का बिजली बिल (ElectricityBill) और पानी का बिल माफ करे।

    वहीं दूसरी ओर प्याज और अन्य फसलों के अच्छे दाम नहीं मिलने से किसान बुरी तरह संकट में हैं, एैसे में पठाणी वसूली करके किसानों के बिजली कनेक्शन काटे जा रहे हैं। हर साल की तरह इस साल जून में अच्छी बारिश नहीं होने के कारण, तहसील के कई हिस्सों में किसानों को दोहरी बुआई के लिए आर्थिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। साथ ही नकदी फसलों जैसे प्याज और अन्य फसलों के दाम कम मिल रहे हैं। वहीं अनार की फसल पर तेलिया बीमारी के बढ़ते प्रकोप के कारण किसानों को दिन-ब-दिन आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है।

    वर्तमान में किसान परेशान है क्योंकि बिजली वितरण कंपनी द्वारा बिजली बिल वसूलने के लिए पठाणी पद्धति का इस्तेमाल किया जा रहा है। बिजली बिल का भुगतान नहीं होने से किसानों के बिजली कनेक्शन काटे जा रहे हैं। यह किसानों के साथ अन्याय है। इसलिए डॉ. पवार ने मांग की है कि पंजाब सरकार की तर्ज पर राज्य सरकार किसानों का बिजली बिल माफ करने के साथ-साथ पानी का बिल भी माफ करे।