Murder of a real estate professional in MP, police say they killed him while looting for money for drugs, transgender also arrested

    नाशिक. कथित धर्म परिवर्तन (Religion Conversion) के मामले में अब एक नई जानकारी सामने आ रही है। नाशिक (Nashik) के एक युवक के खाते में धर्म परिवर्तन के लिए 20 करोड़ रुपये जमा किए गए हैं। मिली जानकारी के अनुसार यह पैसा उसे अलग-अलग देशों से फंडिंग (Funding) के रुप में भेजा गया है। उत्तर प्रदेश में कथित धर्म परिवर्तन मामले में आतंकवाद निरोधी दस्ते (Anti-Terrorist Squad) ने नाशिक रोड के आनंदनगर इलाके के आतिफ उर्फ कुणाल नाम के युवक को हिरासत में लिया है।

    आतिफ नाशिक में कुणाल के नाम से रहता था। उत्तर भारत में कथित धर्म परिवर्तन का मामला गंभीर होता जा रहा है। आरोप है कि उत्तर प्रदेश के अलग-अलग शहरों में करीब 1,000 लोगों का धर्म परिवर्तन कराया गया और नागरिकों का धर्मांतरण करते समय अलग सिद्धांत अपनाने की बात कही गई। आतंकवाद निरोधी दस्ते ने मुजफ्फरनगर (उत्तर प्रदेश) के मोहम्मद शरीफ कुरैशी और मोहम्मद इदरीस के साथ नाशिक से कुणाल अशोक चौधरी उर्फ आतिफ को गिरफ्तार किया है। उल्लेखनीय है कि नाशिक पुलिस को कुणाल की गिरफ्तारी के बारे में कुछ पता नहीं है।

    कुवैत और इस्लामी देशों से फंडिंग

    हाल ही में एैसा मामला सामने आया है कि कुणाल उर्फ आतिफ के खाते में 20 करोड़ रुपये जमा किए गए हैं। कथित धर्मांतर कराने के लिए यह फंड जमा करने का आरोप लगाया जा रहा है। बताया जा रहा है कि कुवैत के साथ दुनिया के अन्य देशों से कुणाल के बैंक खाते में यह रक्कम जमा की गई है। अब यह फंड किस के खाते से भेजा गया है, ये लोग कौन हैं, इसका पता लगाने के लिए इनकी सूची तैयार की जाएगी। साथ ही, धन का उपयोग केवल धर्मांतरण और कुछ अन्य गतिविधियों के लिए किया जाना था। सूत्रों ने बताया कि आतंकवाद निरोधी दस्ते (ATS) ने जांच शुरू कर दी है।  

    ट्रस्ट के माध्यम से हो रही है फंडिंग 

    उत्तर प्रदेश के आतंकवाद निरोधी दस्ते ने देश के विभिन्न हिस्सों से करीब 12 लोगों को गिरफ्तार किया है। उनमें से कई लोग विभिन्न ट्रस्ट चलाते थे। इन ट्रस्ट के लिए दुनिया भर से फंडिंग आ रही थी। कथित तौर पर धन का उपयोग धर्मांतरण के लिए किया गया था। जैसे उनमें से एक ने नाशिक में अपना नाम बदल लिया था, वैसे ही कई अन्य लोग अपनी पहचान छुपा रहे हैं।