CSTPS contract workers strike for bonus

    मालेगांव : महाराष्ट्र राज्य सरकार (Maharashtra State Government) की ओर निर्धारित न्यूनतम मजदूरी (Fixed Minimum Wages) और समय-समय पर महंगाई (Inflation) भत्ता देने और श्रमिकों (Workers) को 8 घंटे की मजदूरी देने की मांग को लेकर मालेगांव महानगरपालिका (Malegaon Municipal Corporation) के निजी ठेकेदार वाटरग्रेस के माध्यम से काम करने वाले घंटा गाड़ी कर्मियों ने मालेगांव महानगरपालिका के प्रवेश द्वार के सामने धरना (Strike) दिया। 

    मालेगांव महानगरपालिका में वाटरग्रेस प्रोडक्ट्स, एक निजी ठेकेदार के माध्यम से काम करने वाले कर्मचारी और ड्राइवर, मालेगांव म्यूनिसिपल वर्कर्स यूनियन के सदस्य हैं, उनकी कई पुरानी मांगें लंबित हैं, इन्हीं मांगों को लेकर मालेगांव महानगरपालिका के घंटा गाड़ी कर्मियों ने महानगरपालिका कमिश्नर समेत वाटरग्रेस प्रोडक्ट्स को ज्ञापन दिया।  

    इस संबंध में 21 दिसंबर 2022 को हुई बैठक में अपर आयुक्त गणेश गिरी ने आठ दिन के भीतर लंबित प्रकरणों का निस्तारण करने का आश्वासन दिया था, लेकिन एक महीने बीत जाने के बाद भी कर्मचारियों की समस्या का समाधान नहीं हुआ, इससे आक्रोशित होकर आक्रोशित घंटा गाड़ी कर्मचारियों ने मालेगांव महानगरपालिका के प्रवेश द्वार के सामने धरना दिया। धरना देने वालों ने न्यूनतम वेतन लागू करने, वित्त वर्ष 2021-22 का बोनस देने, पी. एफ. शीघ्र लागू करने, श्रमिकों को साप्ताहिक अवकाश देने, अतिरिक्त अवकाश के साथ-साथ पीएलसीएल और एसएल को यथाशीघ्र देने की मांग पूरी करने की गुहार लगाई। तुकाराम सोनजे, रमेश जगताप, अजहर खान, पंकज सोनवणे ने कहा कि जब तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा, तब तक आंदोलन जारी रहेगा।