छात्रावास के चौकीदार ने छात्रों की पिटाई के बाद कराई शौचालय की सफाई, वॉचमन पर की गई निलंबन की कार्रवाई

    मालेगांव : शहर के कॅम्प परिसर स्थित आदिवासी सेवा समिति, नासिक संचलित सिद्धार्थ छात्रालय (Nashik Operated Siddharth Hostel) इस अनुदानित छात्रावास (Hostel) के विद्यार्थियों (Students) को मारपीट कर उनसे शौचालय की साफ-सफाई कर शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित करने की घटना सामने आई है। इस प्रकरण में छात्रावास के अधीक्षक, अधिक्षिका और वॉचमैन (Watchman) के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की गई है। साथ ही इस घटना की विस्तृत जांच करने के आदेश दिए गए है। 

    यह जानकारी अपर जिला अधिकारी माया पाटोले ने दी। इस छात्रावास में अस्थायी रूप से अधीक्षक शांताराम देविदास पगार, अधिक्षिका जागृती दत्तात्रय पाटिल और वॉचमैन सुभाष लक्ष्मण पटेल कार्यरत है। उन्होंने छात्रावास के छात्रों को मारपीट कर शौचालय की साफ-सफाई के साथ बर्तन साफ करने, कपड़े साफ करवाते हुए शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित करने की शिकायत नर्मदा आंदोलन के कार्यकर्ता गीतांजली चव्हाण ने समाज कल्याण विभाग से की। 

    संबंधितों के खिलाफ एट्रोसिटी के तहत मामला दर्ज करें

    इसके बाद समाज कल्याण विभाग के अधिकारी योगेश पाटिल छात्रावास में दाखिल हुए। कुछ समय के बाद शिवसेना (शिंदे गुट) के संजय दुसाने, विनोद वाघ, सुनील देवरे सहित स्थानीय नागरिक छात्रावास में दाखिल हुए। दरमियान छात्रों ने शिकायत की। इसके बाद मौजूद नागरिकों ने संबंधितों को निलंबित कर उनके खिलाफ एट्रोसिटी अंतर्गत मामला दर्ज करने की मांग की। घटना की जानकारी मिलते ही कैम्प पुलिस सहित अपर जिला अधिकारी माया पाटोले छात्रावास दाखिल हुए। पाटोले ने प्रकरण की जानकारी लेने के बाद क्रोधित हुए नागरिकों को शांत किया। गीतांजली चव्हाण ने संबधितों पर कार्रवाई करते हुए छात्रों को मुलभूत सुविधा उपलब्ध करने की मांग की। समाज कल्याण अधिकारी पाटिल ने सबंधितों संस्था को कारण बताओ नोटिस जारी कर तीनों कर्मचारियों को निलंबित किया। यह जानकारी अपर जिला अधिकारी ने दी।