Nandurmadhyameshwar Bird Sanctuary

    निफाड़ :  कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रकोप के कम होते ही राज्य सरकार ने प्रतिबंधों में ढील दे दी है। ठंड के कारण 17000 से अधिक देशी और विदेशी पक्षी निफाड़ तहसील (Niphad Tehsil) के नांदूरमध्यमेश्वर अभयारण्य (Nandurmadhyameshwar Bird Sanctuary) में आए हैं, जिसे हाल ही में रामसर का दर्जा मिला है और इसे भरतपुर के नाम से जाना जाता है। महाराष्ट्र में अब पर्यटकों के कदम नांदूरमध्यमेश्वर पक्षी विहार की ओर बढ़ रहे हैं।

    महाराष्ट्र  (Maharashtra) का उत्तम तीर्थ क्षेत्र समझे जाने वाले नाशिक (Nashik) में कुंभ मेला लगता है। इस प्रकार नांदूरमध्यमेश्वर पक्षी तीर्थ स्थल माना जाता है। इस अभयारण्य में किए गए पक्षी निरीक्षण से पता चला है कि यहां 280 से अधिक प्रकार के पक्षी मिलते हैं। यहां के जलाशय में 24 प्रकार की मछलियां भी हैं।

    पौधों की 400 से अधिक प्रजातियां

    यहां  पौधों की 400 से अधिक प्रजातियां हैं। यहां जानवरों में उदमांजर, लोमड़ी, नेवला, भेड़ियां, तेंदुआ, विभिन्न प्रकार के सांप शामिल भी पाए जाते हैं और इस साल नवंबर में 17000 से अधिक पक्षी आए हैं। इनमें फ्लेमिंगो, टिल्स, पोचार्ड, विजन, गडवाल, शॉवलर, पिनटेल, क्रेन, गारगनी, टर्नस्, गज, पेलिकन, गॉडविट, सैंड पायपर, क्रेक, कर्ल्यु, हैरियर, प्रैटिनकोल, गल आदि शामिल हैं। स्थानीय पक्षी जैसे पान चिकन, मुग्धाबालक, गैबागले, मध्य बागले, खांड्या, इबिस, सारस आदि यहां अक्सर देखे जाते हैं। 

    छात्रों को अभयारण्य में आना चाहिए

    नांदूरमध्यमेश्वर पक्षी अभयारण्य वन रेंजर संदीप काले का कहना है कि यहां स्थानीय प्रवासी पक्षी जैसे पंकवले, पंडुब्बी, रोहित, चमचा, धनवर, कुट आदि भी पाए जाते हैं। कोरोना का प्रकोप कम हो गया है। स्कूल अब 22 नवंबर से शुरू हो रहे हैं, इसलिए छात्रों को पक्षी अवलोकन और पुस्तक ज्ञान के माध्यम से पक्षियों के बारे में जानकारी प्राप्त करनी चाहिए।  

    हम देशी और विदेशी पक्षियों के प्रवास का निरीक्षण करने के लिए निफाड़ नांदूरमध्यमेश्वर पक्षी अभयारण्य आए हैं। मेरे साथ हमारे मेहमान और बच्चे भी पक्षियों की चहचहाहट को सुनने और देखने के लिया यहां आए हैं।

    -रीना गायकर, पर्यटक