Nashik Municipal Corporation
File Photo

    नाशिक : नाशिक महानगरपालिका कमिश्नर (Municipal Commissioner) ने नाशिक पूर्व, पश्चिम, पंचवटी, सातपुर, नाराडे, नए नाशिक के विभागीय अधिकारियों (Departmental Officers) के अधिकार (Rights) बढ़ा दिए हैं। इस निर्णय से संभागीय अधिकारियों के हाथ नागरिकों की समस्याओं (Problems) के समाधान के लिए मजबूत होंगे। विभागीय अधिकारियों की शक्तियों को बढ़ाने के लिए प्रशासन के उपायुक्त मनोज पाटिल की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया गया है। नगर अभियंता शिवकुमार वंजारी, कार्यपालक अभियंता शिवाजी चव्हाण के, संजय अग्रवाल, उपायुक्त करुणा दहले और नासिक रोड के संभागीय अधिकारी दिलीप मेनकर इस समिति के सदस्य थे। समिति की ओर से तैयार की गई रिपोर्ट कमिश्नर को सौंपे जाने के बाद महानगरपालिका कमिश्नर रमेश पवार (Commissioner Ramesh Pawar) ने इस संबंध में अधिकार बढ़ाने का आदेश जारी किए हैं। 

    शहर के आम नागरिकों को राजीव गांधी मुख्यालय (Rajiv Gandhi Headquarters), जो कि निगम का मुख्यालय है, के आसपास भटकने से राहत मिलेगी। वर्तमान में नागरिकों को छोटे से छोटे काम के लिए भी महानगरपालिका मुख्यालय तक पहुंचना पड़ता है, लेकिन विभागीय अधिकारियों की शक्तियों में वृद्धि के बाद अधिकांश कार्य संभागीय कार्यालय से ही होंगे, महानगरपालिका कमिश्नर ने महानगर में अनाधिकृत निर्माण, अतिक्रमण, अवैध नल कनेक्शनों पर अंकुश लगाने के लिए संभागीय अधिकारियों की शक्तियों को बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। 

    ऐसे होंगे अधिकार  

    ठोस अपशिष्ट प्रबंधन विभाग की स्थापना में कार्यरत स्वच्छता निरीक्षकों, स्वच्छता मामलों और सफाई कर्मियों को सौंपे गये उपस्थिति शेडों पर कार्य का आवंटन। विभागीय अधिकारियों को आंतरिक स्थानांतरण करने का अधिकार होगा, इसके अलावा सार्वजनिक स्थानों पर थूकना, सड़कों पर गंदगी, सार्वजनिक स्थानों पर कूड़ा-करकट, प्लास्टिक और सभी प्रकार के कूड़ा-करकट को खुले में जलाने, खुले में पेशाब और अस्वच्छता करने, पालतू जानवरों द्वारा सार्वजनिक स्थानों पर गंदगी फैलाने पर ठोस अपशिष्ट अधिनियम 2016 संभागीय अधिकारी के प्राधिकार के तहत और उनकी ओर से संभागीय स्वच्छता निरीक्षक को प्रावधानों के अनुसार जुर्माने का अधिकार दिया गया है।

    सार्वजनिक स्थलों से अतिक्रमण हटाने का अधिकार विभागीय अधिकारियों को दिया गया है। सार्वजनिक स्थानों पर अतिक्रमण हटाते समय महानगर नियोजन विभाग के कनिष्ठ अभियंता, शाखा अभियंता, उप अभियंता, निर्माण विभाग के अधिकारी आवश्यकता अनुसार, विद्युत विभाग के वायरमैन कनिष्ठ लिपिक, जलापूर्ति विभाग के कनिष्ठ अभियंता को आवश्यकता अनुसार। निजी संपत्ति पर अनाधिकृत अतिक्रमण हटाने के संबंध में अब विभागीय अधिकारी निर्णय लेंगे।  नगर नियोजन विभाग की ओर से अतिक्रमण का निर्धारण किये जाने के बाद उपायुक्त द्वारा अतिक्रमण हटाने का आदेश पारित करने के बाद संभागीय अधिकारी के पास अधिकारिक अतिक्रमण को क्रियान्वित करने का अधिकार होगा। निजी क्षेत्र से अतिक्रमण हटाने में नगर नियोजन विभाग के अधिकारी उनकी मदद करेंगे, इसी प्रकार विद्युत विभाग के वायरमैन जलापूर्ति विभाग के प्रशासन विभाग के वरिष्ठ लिपिक और कनिष्ठ लिपिक को निजी अतिक्रमण हटाते समय उपरोक्त सभी अधिकारियों का साथ देना होगा। 

    उप अभियंता जलापूर्ति परमिट के तकनीकी फीडबैक से 50 एमएम तक के नए पाइप कनेक्शन के प्रकार और उपयोग को बदलने की अनुमति संभागीय अधिकारी को दी गई है। इसमें पांच सौ मीटर से अधिक की अनधिकृत जलापूर्ति नल, जल निकासी आदि के कनेक्शन के लिए दंडात्मक कार्रवाई करने और कमिश्नर की मंजूरी से एमआरटीपी अधिनियम के तहत अपराध दर्ज करने का अधिकार होगा, उन्हें टेंडर और एग्रीमेंट में उल्लिखित नियमों और शर्तों के अनुसार बेल ट्रेन की स्थिति का निरीक्षण और सत्यापन करने की शक्ति दी गई है। 

    बोगस डॉक्टरों पर कार्रवाई का अधिकार

    बायोमेडिकल वेस्ट के सदस्यों के अनाधिकृत पंजीकरण के मामले में अनाधिकृत पाये जाने पर दंडात्मक कार्यवाही की जायेगी। अस्पताल नर्सिंग होम अस्पताल और क्लीनिक यह कार्यवाही विभागीय अधिकारियों द्वारा की जाएगी। अनाधिकृत होर्डिंग के मामले में कानूनी कार्रवाई करने के लिए सभी प्रकार के होर्डिंग का निरीक्षण करने की अनुमति अब विभागीय अधिकारियों के हाथ मजबूत होंगे, क्योंकि कमिश्नर ने विभागीय अधिकारियों को स्थान और समय पर स्पॉट चेक करने के लिए महत्वपूर्ण अधिकार दिए हैं। 

    इस फैसले से निगम मुख्यालय में कई अधिकारियों के शामिल होने का रास्ता बंद हो जाएगा। महानगरपालिका के नगर नियोजन विभाग द्वारा नए निर्माण की अनुमति दी गई है। लेआउट के अनुसार भवनों का निर्माण न होने की स्थिति में, नगर नियोजन विभाग को ऐसे निर्माणों पर कार्रवाई करने का अधिकार है, हालांकि, संबंधित निर्माण पर अंकित की जाने वाली फाइल नगर नियोजन विभाग की ओर से अतिक्रमण विभाग को भेजी जाती है, उसकी रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाती है।