Notice
Representational Pic

    नाशिक : मानसूनी वर्षा काल में खराब हुई सड़कों (Roads) के अलावा सड़कों पर गड्ढे (Potholes) के मामले को लेकर 14 ठेकेदारों (Contractors) को नोटिस (Notice) जारी की गई है। बताया जा रहा है कि महानगरपालिका ने गड्ढा युक्त रास्तों को बनाने का काम तेज कर दिया है। डांबर, खड़ी टाकून सड़कों पर हुए गड्ढों का पाटा जा रहा है। नाशिक रोड, पाथर्डी क्षेत्र में डांबर डालकर रास्तों की मरम्मत किए जाने की जानकारी मिली है।

    डांबर से गड्ढों को भरा गया

    सड़कों के रखरखाव और मरम्मत की जिम्मेदारी ठेकेदार की होती है, इसलिए सड़क मरम्मत में लापरवाही के मामले में 14 ठेकेदारों को नोटिस जारी किया गया है। नाशिक पश्चिम मंडल के थट्टे नगर इलाके में गड्ढे भर दिए गए। इसी खंड में बड़ा बंगला, जल नहर के काम के लिए खोदी गई सड़क को पत्थर से भर कर दिया गया। पूर्वी मंडल के वार्ड नंबर 30 में कला नगर, वडाला, पाथर्डी सड़कों पर गड्ढे भरे गए हैं। काला नगर चौक में गड्ढों को भरने के लिए विशेष मिश्रण का इस्तेमाल किए जाने की जानकारी मिली है। मेट्रो जोन, गंगापुर रोड, गणेश नगर, वसंत मार्केट, नांदुर रोड आदि में गड्ढे भरने का कार्य प्रगति पथ पर है। तोफखाना केंद्र रोड की खुदाई एमएनजीएल ने गैस पाइपलाइन के लिए की थी, लेकिन नाशिक महानगरपालिका प्रशासन का कहना है कि डांबर से गड्ढों को भरा गया है। 

    गड्ढों को भरने का अभियान युद्धस्तर पर चलाया जा रहा 

    जुलाई में हुई बारिश ने शहर की सड़कों की हालत खस्ता कर दी थी। छोटे-बड़े सभी रास्तों पर इतने गड्ढे बन गए थे कि यह अंदाजा लगाना मुश्किल हो गया था कि यहां सड़क थी कि नहीं। गड्ढे वाली सड़कों ने लोगों के गुस्से को हवा दी। राजनीतिक दलों ने आंदोलन शुरू किया। नाशिक महानगरपालिका ने खुद कहा था कि शहर की सड़कों पर छह हजार से ज्यादा गड्ढे हो गए हैं। मुख्य सड़कों के साथ कॉलोनी की सड़कों की स्क्रीनिंग की गई है। एक-दो वर्ष पहले बनी नई सड़कों की स्थिति भी कुछ अलग नहीं है। इस संदर्भ में महानगरपालिका कमिश्नर डॉ. चंद्रकांत पुलकुंडवार के सुझाव के अनुसार नगर अभियंता शिवकुमार वंजारी के मार्गदर्शन में गड्ढों को भरने का अभियान युद्धस्तर पर चलाया जा रहा है। दावा किया जा रहा है कि सड़क की मरम्मत करते समय गुणवत्ता पर ध्यान दिया जा रहा है और ठेकेदारों को चेतावनी दी गई है कि वे अच्छी सड़क बनाएं। बेकार सड़क बनाने के मामले में 14 ठेकेदारों को कारण बताओ नोटिस जारी कर सड़क की तत्काल मरम्मत करने के निर्देश दिए गए हैं।