Narendra Modi, 5 thousandNaMo Warriors, Mumbai
मुंबई में 5 हजार 'नमो वॉरियर्स'

Loading

नासिक: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) ने शनिवार को दावा किया कि 2024 के आम चुनाव में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जीत निश्चित है क्योंकि विपक्ष अपना एक नेता तय करने में नाकाम हो गया है।  ‘शासन आपल्या दारी’ (सरकार आपके द्वार) कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शिंदे ने कहा कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) नेता अजित पवार के शिवसेना- भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार में शामिल होने से राज्य सरकार के कामकाज में ‘तेजी’ आएगी। 

शिंदे ने कहा, ‘‘हमारे पास (महाराष्ट्र में) 200 विधायक और सांसद हैं। कोई भेदभाव नहीं होगा। किसी के साथ भी अन्याय नहीं किया किया जाएगा।”  उन्होंने कहा कि विपक्षी नेता अगले लोकसभा चुनाव में मोदी को हराने के लिए एकजुट होने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन वे अपना एक नेता तय नहीं कर सके हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘इसने प्रधानमंत्री मोदी की जीत निश्चित कर दी है।” उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जहां भी जाते हैं, उनकी प्रशंसा होती है। शिवसेना नेता ने कहा कि मोदी को अमेरिकी कांग्रेस (संसद) को दो बार संबोधित करने का अवसर मिला और हाल में फ्रांस ने अपने शीर्ष सम्मान से उन्हें सम्मानित किया। उन्होंने कहा, ‘‘अजित पवार के (महाराष्ट्र सरकार में) शामिल होने से राज्य सरकार के कामकाज की गति तेज हो गई है और यह अधिक तेजी से निर्णय लेगी।”

शिंदे ने यह टिप्पणी दो जुलाई को अजित पवार के सरकार में शामिल करने के संदर्भ में की। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुंबई मेट्रो परियोजना और मुंबई-नागपुर समृद्धि महामार्ग योजना को पहले रोक दिया गया था, लेकिन उनकी सरकार ने ‘अवरोधकों’ को हटा दिया है।  शिंदे ने संभवत: अपने पूर्ववर्ती उद्धव ठाकरे पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘सत्ता का अभिप्राय घर पर बैठना नहीं होता, बल्कि जनता के बीच जाकर योजनाओं को लागू करना होता है। मैं उनके बारे में नहीं बोलूंगा, जो अपने घरों में बैठे हैं। पवार साहेब (शरद पवार) ने अपनी किताब में लिखा है। जो लोग घर से काम करते हैं उन्हें जनता ने घर बैठने को मजबूर कर दिया है।”

उन्होंने उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की प्रशंसा करते हुए कहा कि भाजपा नेता उनके ‘अच्छे मित्र है और बड़े दिल वाले व्यक्ति हैं।” शिंदे ने कहा, ‘‘वह मुख्यमंत्री थे और मैंने उनके साथ काम किया था। इसके बावजूद वह उप मुख्यमंत्री बने और मैं मुख्यमंत्री बना। अब उन्होंने एक और उप मुख्यमंत्री (अजित पवार) को स्वीकार किया है। फिर भी कुछ लोगों ने उन्हें ‘कलंक’ करार दिया, जबकि तथ्य यह है कि वह ‘निष्कलंक’ नेता हैं।” शिवसेना (यूबीटी) प्रमुख उद्धव ठाकरे ने हाल में फडणवीस पर निशाना साधते हुए उन्हें नागपुर का ‘कलंक’ बताया था।