vegetable

    नाशिक. प्याज का बड़ा उत्पादन करने वाले नाशिक (Nashik) के निवासियों (Residents) को दिल्ली (Delhi) जैसी कीमतों पर प्याज खरीदना पड़ रहा है। यह बारिश के नुकसान का परिणाम है। केंद्र सरकार ने कहा है कि वह बफर स्टॉक के जरिए प्याज की कीमतों को स्थिर करने की कोशिश कर रही है। केंद्रीय उपभोक्ता मामले में विभाग की ओर से आलू, प्याज और टमाटर के पिछले साल और मौजूदा कीमतों की तुलना जारी की गई है।

    जिसके अनुसार दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में आलू की खुदरा कीमतें पिछले साल की तुलना में कम हैं। दिल्ली में प्याज की कीमत 44 रुपये प्रति किलो, मुंबई में 45 रुपये, कोलकाता में 57 रुपये और चेन्नई में 42 रुपये है। पिछले साल इन महानगरों में प्याज की कीमत क्रमश: 43 रुपये, 63 रुपये और 50 रुपये प्रति किलो थी। इसका कोई जवाब नहीं है कि क्या किसानों को वह कीमत मिलती है जो नाशिक निवासियों को प्याज के लिए चुकानी पड़ती है। दिल्ली में आलू 20 रुपये किलो और टमाटर 56 रुपये किलो बिक रहा है। नाशिक निवासियों को आलू और टमाटर के लिए दिल्ली के समान कीमत चुकानी पड़ रही है। पिछले साल दिल्ली में आलू 37 रुपये और टमाटर 45 रुपये किलो बिका था।

    आलू की मौजूदा कीमत इस प्रकार है

    मुंबई – 21 (43), कोलकाता – 15 (32), चेन्नई – 27 (40)

    टमाटर की कीमतें इस प्रकार हैं: मुंबई – 59 (51), कोलकाता – 72 (50), चेन्नई – 59 (35)

    अगस्त से प्याज को दामों के लिए प्रयत्न

    अगस्त 2021 के अंतिम सप्ताह से, उपभोक्ता मामलों का विभाग प्याज की कीमतों को कम करने और कम भंडारण नुकसान सुनिश्चित करने के दोहरे उद्देश्य के साथ पहले के आधार पर स्टॉक में प्याज के दाम जारी कर रहा है। प्याज उन जगहों पर भेजा जा रहा है जहां राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में कीमतें राष्ट्रीय औसत से ऊपर या पिछले महीने की तुलना में अधिक हैं। 12 अक्टूबर तक दिल्ली, कोलकाता, लखनऊ, पटना, रांची, गुवाहाटी, भुवनेश्वर, हैदराबाद, बैंगलोर, चेन्नई, मुंबई, चंडीगढ़, कोच्चि और रायपुर में 6,73,567 टन प्याज उपलब्ध कराया जा चुका है।

    उपभोक्ता मामलों के विभाग ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 21 रुपये की दर से प्याज की पेशकश की है। इसलिए, राज्य और केंद्र शासित प्रदेश खुदरा दुकानों के माध्यम से कीमतों को कम करने या प्रमुख बाजारों में खुदरा ग्राहकों तक पहुंचाने के लिए स्वयं हस्तक्षेप करने में सक्षम होंगे, एैसा केंद्र सरकार का कहना है। खुदरा बाजार में शामिल केंद्रीय या राज्य एजेंसियों के पास 21 रुपये प्रति किलो परिवहन लागत के साथ स्टॉक उपलब्ध है। 

    दो लाख टन प्याज की खरीद

    कीमतों को उचित रखने के लिए बाजार के हस्तक्षेप के उद्देश्य से मूल्य स्थिरीकरण कोष के तहत उपभोक्ता मामले विभाग द्वारा प्याज के स्टॉक का रखरखाव किया जाता है। 2021-22 में दो लाख टन प्याज का स्टॉक करने का लक्ष्य है। अप्रैल से जुलाई 2021 तक दो लाख आठ हजार टन प्याज की खरीद हो चुकी है।