Sarafa Bazaar closed due to heavy rain, loss of business worth Rs 6 crore

    नाशिक. पिछले 3 दिनों से बांध क्षेत्र में हो रही तूफानी बारिश और गंगापूर बांध (Gangapur Dam) से छोड़े जाने वाले पानी के कारण नाशिक में बाढ़ आएगी एैसा डर होने से दिन भर अधिकांश सराफा बाजार बंद रहा। जिससे करीब 6 करोड़ रुपए का कारोबार ठप हो गया है। नाशिक में सितंबर महीने में बारिश ने जोरदार कहर मचाया। गोदावरी नदी में एक माह में 4 बार बाढ़ आई।

    गोदावरी नदी में 13 सितंबर को पहली बाढ़ आई थी।  उसके बाद 22 सितंबर के दिन दूसरी बार बाढ़ आई।  27 सितंबर को फिर एक बार बांध से पानी छोड़ा गया और बाढ़ आई और 29 सितंबर का दिन गोदावरी का महाबाढ़ का दिन कहलाया। उस दिन एक साथ 18000 क्युसेक पानी नदी में छोड़ा गया। पानी छोड़े जाने से कुछ ही घंटो पहले लोगों को सुरक्षित स्थान पर रहने के लिए घोषणा की गई थी। शहर के नागरिकों को भी बाढ़ देखने के लिए आने से मना कर दिया गया था। जिला अधिकारी ने अपील कर रखी है कि बिना किसी जरुरत के घर से बाहर ना निकलें क्योंकि अतिवृष्टी के कारण बांधों से बार बार पानी का विसर्ग किया जा रहा है।  नाशिक का सराफा बाजार गोदावरी नदी के करीब होने के कारण बाढ़ का पानी यहां तक पहुंच जाता है। 

    बड़ा कारोबार प्रभावित हुआ है

    एैसे में यहां के व्यापारियों ने अपना कीमती सामान तुरंत दुकानों से हटा लिया और दुकाने बंद कर दीं। आसपास के छोटे ठेला व्यापारी भी अपनी दुकाने बचाते हुए सराफ बाजार में ही पहुंच गए थे।  एैसी स्थिती में सराफ दुकानों में बहुमूल्य सोना और वस्तू रखना खतरे से खाली नहीं था।  दुकानदारों का कहना है कि हम से कहा गया था कि इतना पानी छोड़ा जाएगा कि दो मुखी मारुती की ऊंची प्रतिमा भी डूब जाएगी।  ऐसे में सराफ बाजार में पानी आना स्वाभाविक था।  हम ने सुबह से ही सामान हटाने की शुरुवात कर दी थी और दोपहर तक पूरे बाजार को खाली कर लिया गया था।  बताया जा रहा है कि सराफ बाजार में प्रति दिन करीब 6 करोड़ रूपए का कारोबार होता है। बाढ़ के कारण दुकानें बंद होने से मंडी का इतना बड़ा कारोबार प्रभावित हुआ है। 

    नाशिक के गंगापुर बांध से पानी छोड़ा जाएगा। इसलिए गोदावरी में बड़ी बाढ़ आने का डर था। यह देख हमने सुबह से ही दुकानों का सामना हटाना शुरु कर दिया था। दुकान में रखे सोने चांदी के जेवर सुरक्षित स्थान पर ले गए।

    - चेतन राजापुरकर, इंडिया सराफ एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन, महाराष्ट्र

    पिछले दो दिनों से बारिश हो रही थी। गोदावरी में सोमवार को बाढ़ आई थी। समझा जा रहा था कि बुधवार को और पानी छोड़ा जाएगा। इसलिए हम सतर्क थे। बाढ़ की आशंका से दुकान में पानी भर गया, लेकिन हम ने पूरा माल पहले ही हटा लिया था।

    - गिरीष नेवासे, अध्यक्ष, द नाशिक सराफ एसोसिएशन