Some cities still need rain in the district, water storage reduced

    नाशिक. जहां भारी बारिश (Heavy Rain) ने नांदगांव (Nandgaon), मालेगांव(Malegaon) और कलवण(Kalwan) तहसीलों में फसलों (Crops) को नुकसान पहुंचाया, वहीं पश्चिमी पट्टे (Western Lease) में बारिश (Rain) बुधवार (Wednesday) सुबह 8 बजे खत्म हुई। बारिश 24 घंटे तक जारी रही हालांकि, चांदवड़, नाशिक, सिन्नर और दिंडोरी तहसीलों को और अधिक बारिश की जरूरत है। पिछले साल की तुलना में जिले में 7.68 फीसदी बारिश हुई है, जबकि बांधों में पानी का भंडारण 19 फीसदी कम है।

    बुधवार सुबह आठ बजे तक समाप्त हुए पिछले 24 घंटों में इगतपुरी तहसील में 23 मिमी, दिंडोरी में 2 मिमी, पेठ में 9 मिमी, त्र्यंबकेश्वर में 10 मिमी, कलवध में 1 मिमी, सुरगाणा में 10.1 मिमी और देवला में 1.8 मिमी बारिश दर्ज की गई।पिछले साल सितंबर के दूसरे सप्ताह में 95.97 फीसदी बारिश दर्ज की गई थी। इस साल अब तक 88.29 फीसदी बारिश हो चुकी है।

    नाशिक तहसील में 53.24 फीसदी, दिंडोरी में 67.88 फीसदी, चांदवड़ में 47.59 फीसदी और सिन्नर में 66.05 फीसदी बारिश हुई है। इन सभी चार तहसीलों को बारिश की जरूरत है। अन्य तहसीलों में वर्षा का प्रतिशत इस प्रकार है: इगतपुरी-96.96, पेठ-98.53, त्र्यंबकेश्वर-73.14, मालेगांव-116.04, नांदगांव-134.74, कलवण-73.01, बागलान-86.87, सुरगाणा- 97.91, देवला-102.91, निफाड़-98.80 , येवला-93.69.

    छोड़ा गया नांदुरमधमेश्वर से 30 हजार क्युसेक पानी

    पिछले साल सितंबर में जिले की 24 परियोजनाओं, 7 बड़ी और 17 मध्यम परियोजनाओं में 92 प्रतिशत पानी जमा किया गया था। फिलहाल स्टॉक 78 फीसदी है। लगातार हो रही बारिश के कारण बांधों से पानी का बहाव जारी है। इसलिए अब 20 हजार 823 क्यूसेक पानी नंदुरमाधमेश्वर से जायकवाड़ी भेजा जा रहा है। 7 बांध आलंदी, भावली, वलदेवी, हरणबारी, केलझर, नाग्यासाक्य और मानिकपुंज भरे हुए है। तीनों बांधों से अपेक्षित जल संग्रहण अभी तक हासिल नहीं हुआ है। इनमें ओझारखेड़ 40 फीसदी, तिसगांव 24 फीसदी और भोजपुर 40 फीसदी शामिल हैं।

    बांधों से छोड़ा गया पानी (आंकड़े क्यूसेक में)

    • गंगापुर- 1 हजार 659
    • आलंदी- 80
    • पुणे- 300
    • दारणा – 7 हजार
    • भावली- 588
    • वालदेवी- 599
    • कादवा- 848
    • चणकापुर- 440
    • हराणबारी- 846
    • केलझर- 388
    • नाग्यासाक्या- 212