Nashik Police Commissioner furious at MNS, warns of complaint to Election Commission for breaking the law

    नाशिक: चेन स्नैचिंग (Chain Snatching) एक अपराध (Crime) है, नाशिक के पुलिस कमिश्नर (Police Commissioner) दीपक पांडे (Deepak Pandey) ने कहा कि पुलिस अब सोना खरीदने वालों पर ध्यान केंद्रित कर रही है और चोरी का सोना खरीदने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी।

    नाशिक पुलिस आयुक्तालय की ओर से वर्ष 2021, 2020, 2019 और 2018 में निम्नलिखित घटनाओं में फर्यादी को उसका चोरी हुआ सामान वापस करने के लिए पुलिस कमिश्नर कार्यालय में एक समारोह आयोजित किया गया था। बाद में पुलिस कमिश्नर दीपक पांडे ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि विभिन्न मामलों में फर्यादी के सामान की वापसी सीआरपीसी एक्ट का हिस्सा है। इसे न्यायालय द्वारा उपयोग करने का आदेश दिया जाता है और पुलिस द्वारा आपत्ति के रूप में अनुमति दी जाती है और फिर आगे की कानूनी कार्रवाई की जाती है। उन्होंने कहा कि कुछ फर्यादियों ने प्रतिक्रिया व्यक्त की थी कि अदालत की प्रक्रिया जटिल थी और वह इस मामले पर माननीय न्यायालय के साथ चर्चा करेंगे और उचित कार्रवाई करेंगे।

    सुनारों के खिलाफ सख्त कार्रवाई 

    फर्यादियों का पुलिस पर पूरा भरोसा होता है इसलिए पुलिस का भी कर्तव्य बनता है कि लोगों के चोरी हुए सामान को जल्द से जल्द लौटाने का प्रयास करे। सामान मिलने पर फर्यादी को जा खुशी होती है वही आनंद हमारे मन मे भी होता है। कमिश्नर ने कहा कि इसके लिए शहर के सभी पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों ने विशेष ध्यान दिया और उचित कदम उठाए तभी यह कार्यक्रम सफल हो सका। चेन स्नैकिंग का अपराध करना बहुत आसान है। उन्होंने कहा, ”इस अपराध को कोई भी अंजाम दे सकता है। वृद्ध महिलाओं को निशाना बनाना आसान है।” पुलिस कमिश्नर दीपक पांडे ने कहा कि पुलिस सोना चुराने वालों के साथ उसे खरीदने वाले सुनारों और अन्य लोगों की तलाश कर रही है। पुलिस का अगला उद्देश्य ऐसे व्यक्तियों और सुनारों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करना है।