suicide
Representative Photo

    पुणे. डिप्रेशन (Depression) में रहे एक 40 वर्षीय युवक ने अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या (Suicide) कर ली। यह घटना सिंहगढ़ रोड (Sinhagad Road) पर स्थित नांदेड फाटे के पास घटी। संजीव दिगंबर कदम (40) आत्महत्या करनेवाले युवक का नाम है। बताया जा रहा है कि उनके दो बच्चे एक बेटा और एक बेटी की साल भर पहले बीमारी के कारण मौत (Death) हो गई थी। तब से वो डिप्रेशन में थे।

    हवेली पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, दो दिन पहले संजीव कदम अपनी पत्नी को मायके छोड़ कर आए थे। दोपहर से उनकी पत्नी उन्हें फोन लगा रही थी, लेकिन संजीव कदम फोन नहीं उठा रहे थे। अंत में रात को नौ बजे के आसपास कदम की पत्नी ने जान पहचान वाले कुछ लोगों को फोन कर घर जाकर देखने को कहा। घर का दरवाजा अंदर से बंद था, इसलिए दरवजा को तोड़ा गया तो कदम पंखे से लटके मिले। हवेली पुलिस थाने के पुलिस हवलदार अजय पाटसकर और पुलिस नाईक किरण बरकाले ने घटनास्थल पर जाकर लटके हुए शव को नीचे उतारा।

    दो बच्चों की पहले ही हो गई थी मौत

    पुलिस निरीक्षक सदाशिव शेलार के मार्गदर्शन में अधिक जांच शुरू है। साल भर पहले संजीव कदम के 14 साल के बेटे और 10 साल की बेटी की कुछ ही दिन के अंदर बीमारी से मृत्यु हो गई। दोनों बच्चों की मौत के बाद कदम डिप्रेशन में चले गए। बच्चों के विरह की वजह से डिप्रेशन में आए कदम ने आत्महत्या कर ली होगी, ऐसा प्राथमिक अनुमान लगाया जा रहा है।

    गुमशुदा युवती की लाश मिलने से हड़कंप

    उधर, पुणे के मार्केटयार्ड स्थित आंबेडकर नगर कॉलोनी से लापता हुई युवती का शव हड़पसर के रेलवे लाइन पर मिलने से खलबली मच गई है। मृतक का नाम प्रतिमा भास्कर कुटगे ( 22) है। पुलिस के अनुसार, प्रतिमा सोमवार की दोपहर दो बजे साइबर कैफे में काम के लिए जाने की बात कहकर घर से निकली थी, लेकिन देर रात तक वह वापस नहीं लौटी। रिश्तेदारों और अन्य जगहों पर उसका पता लगाया लेकिन उसका कोई पता नहीं चला। आख़िरकार परिवार वालों ने मार्केटयार्ड पुलिस स्टेशन में प्रतिमा के लापता होने की शिकायत दर्ज करा दी। इसके आधार पर मार्केट यार्ड पुलिस युवती को तलाश रही थी। तभी उसी रंग और कद की एक लड़की का शव  हड़पसर रेलवे लाइन पर मिली। इसकी जानकारी मार्केट यार्ड पुलिस को दी गई। उसकी पहचान करने पर वह लापता युवती प्रतिमा थी। इसके बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए ससून हॉस्पिटल भेज दिया। अधिक जांच के लिए उसका बिसेरा सुरक्षित रखा गया है। प्रतिमा घर से निकलने के बाद रेलवे लाइन तक कैसे पहुंची। उसके साथ कोई था क्या? इसकी जांच पुलिस कर रही है।