पुणे में ट्रैफिक पुलिस की एक और कार्रवाई चर्चा में, पुलिस उठा ले गई बाइक तो बना दिया स्मारक

    पुणे. हाल ही में पुणे (Pune) की ट्रैफिक पुलिस (Traffic Police) द्वारा दोपहिया सवार समेत उसकी दोपहिया को क्रेन (Crane) से उठा लेने का मामला पूरे राज्यभर गूंजा। उसके बाद पुणे में ट्रैफिक पुलिस की एक और कार्रवाई चर्चा में है। एक पुणेकर (Punekar) की गाड़ी ट्रैफिक पुलिस उठाकर ले गई। इसका विरोध करने के लिए उसने अनोखा कदम उठाते हुए अपनी बाइक (Bike) का वहीं स्मारक बना दिया। यही नहीं यहां पर एक पुणेरी पाटी (बोर्ड) लगाकर पुणे ट्रैफिक पुलिस का निषेध किया है। इस व्यक्ति का नाम सचिन धनकुड़े (Sachin Dhankude) है। 

    उन्होंने बनाए स्मारक में गणेश मूर्ति की स्थापना कर अलग-अलग तरह की झांकी तैयार की गई है। खास बात यह है कि इस जगह पर उन्होंने अपनी बाइक भी रखी है। सचिन की बाइक जून महीने में ट्रैफिक पुलिस ने उठा ली थी। 

    कई मजेदार पुणेरी बोर्ड लगाए गए 

    यह बाइक उन्हें 80 दिनों के बाद वापस मिली। हालांकि इसकी वजह से हुई मानसिक परेशानी को बयां करने और ट्रैफिक पुलिस की कार्रवाई का विरोध करने के लिए उन्होंने यह स्मारक बनवाया है। यह स्मारक काफी चर्चा में है। पुणे के कोथरुड के भुसारी चौक में यह स्मारक बनाया गया है। इस स्मारक की जगह पर सचिन ने अपनी बाइक रखी है। स्मारक के बाहर की तरफ उन्होंने अलग-अलग तरह का संदेश देने वाले बोर्ड लगाए है।  इनमें भाई नहीं, आगे चौक में पुलिस है, पार्किंग का आरक्षण हमारा अधिकार, मां ने कहा शराब छोड़ दो, बाबूजी ने कहा घर छोड़ दो, पीछे बैठी पारो कह रही है सिंग्नल तोड़ दो। इस तरह के कई मजेदार पुणेरी बोर्ड लगाए गए है। इसके साथ ही उन्होंने ट्रैफिक नियमों को लेकर भी जनजागृति की है।

    पुलिस ने गाडी 80 दिनों के बाद वापस कर दी 

    सचिन ने बताया कि 15 जून को नो पार्किंग जोन में गाडी खड़ी नहीं करने के बावजूद ट्रैफिक पुलिस ने उनकी गाडी उठा ली। इसके बाद उन्होंने ट्रैफिक पुलिस स्टेशन जाकर सारी घटना बताई। इसके बावजूद पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों ने उनकी गाडी नहीं छोड़ी। पुलिस के पास नो पार्किंग में गाडी खड़ी किये जाने का फोटो भी नहीं था। कई बार प्रयास करने के बाद भी उन्हें गाडी वापस नहीं मिली।  इसके चलते उन्होंने गणेश उत्सव के मौके पर भुसारी कॉलोनी मित्रमंडल द्विसदस्यीय गाडी स्मारक बनवाया। आख़िरकार पुलिस ने गाडी 80 दिनों के बाद वापस कर दी है।